ओम प्रकाश राजभर के खिलाफ मऊ में केस दर्ज, ये रही वजह
Latest News
bookmarkBOOKMARK

ओम प्रकाश राजभर के खिलाफ मऊ में केस दर्ज, ये रही वजह

By News18 calender  27-Aug-2019

ओम प्रकाश राजभर के खिलाफ मऊ में केस दर्ज, ये रही वजह

उत्‍तर प्रदेश की योगी सरकार में कैबिनेट मंत्री पद से इस्तीफा दे चुके सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (एसबीएसपी) के अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर (Om Prakash Rajbhar) के खिलाफ मऊ में केस दर्ज हुआ है. बता दें कि रविवार को कोपागंज थाना क्षेत्र के फत्‍तेपुर ताल गांव में ओमप्रकाश राजभर एक जनसभा को संबोधित करने आए थे. सभा के दौरान ओमप्रकाश राजभर ने बीजेपी कार्यकर्ताओं पर आरोप लगाते हुए अमर्यादित भाषा का प्रयोग किया और भद्दी गालियां तक दे डाली थी. इस पर भाजपा कार्यकर्ता अखिलेश राजभर ने ओमप्रकाश राजभर के खिलाफ कार्रवाई के लिए कोपागंज थाने में केस दर्ज कराया है. पुलिस मुकदमा दर्ज कर जांच में जुट गई है.
ओम प्रकाश राजभर के खिलाफ मऊ में केस दर्ज, ये रही वजह

आपको बता दें कि मऊ जिले के घोसी विधानसभा क्षेत्र के फत्‍तेपुर ताल गांव में सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी/सुभासपा (Suheldev Bharatiya Samaj Party) की एक जनसभा का आयोजन किया गया था, जिसमें राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश राजभर और राष्ट्रीय महासचिव अरविंद राजभर मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित थे. इस दौरान दोनों ही बाप-बेटे ने भाजपा सरकार पर जमकर हमला बोला. अपनी बात कहने में ओपी राजभर इतना बह गए कि भाषा की मर्यादा को तोड़ते हुए जमकर अपशब्‍दों का इस्‍तेमाल किया.

'भाजपा दुनिया की सबसे बड़ी झूठी पार्टी'
इसके बाद उनके बेटे और पार्टी के महासचिव अरविंद राजभर की बारी आई. उन्होंने भी शब्दों की सीमा को लांघते हुए कहा कि किसी के बाप की औकात नहीं है जो सुहलदेव भारतीय समाज पार्टी को बर्बाद कर दे. भाजपा वाले सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी को अपने बाप की बपौती समझ लिए हैं. भाजपा देश ही नहीं दुनिया की सबसे बड़ी झूठी पार्टी है. ऐसे लोगों की पिटाई तो होगी ही, जिन लोगों ने कहा था कि सरकार बनाओ व्यवस्था देंगे.
13 सीट पर अकेले चुनाव लड़ेगी सुभासपा
ओमप्रकाश राजभर ने जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि प्रदेश में जिन 13 विधानसभा सीटों पर चुनाव होने वाले हैं, उसके लिए पार्टी तैयारी कर रही है. 13 सीटों पर अपने दम पर चुनाव लड़ा जाएगा, लेकिन रास्ते खुले हैं. भारतीय जनता पार्टी धोखेबाज पार्टी है. इसलिए किसी के साथ भी समझौता हो सकता है.

MOLITICS SURVEY

महाराष्ट्र में अगर शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस के गठबंधन की सरकार बनती है तो क्या उसका हाल भी कर्नाटक जैसा होगा ?

TOTAL RESPONSES : 34

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know