महागठबंधन में सबकुछ ठीक ठाक नहीं, RJD और HAM के बीच खिंची तलवारें
Latest News
bookmarkBOOKMARK

महागठबंधन में सबकुछ ठीक ठाक नहीं, RJD और HAM के बीच खिंची तलवारें

By Prabhatkhabar calender  31-Aug-2019

महागठबंधन में सबकुछ ठीक ठाक नहीं, RJD और HAM के बीच खिंची तलवारें

बिहार में विपक्षी महागठबंधन में सबकुछ ठीकठाक नहीं है. हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (एचएएम) के अध्यक्ष जीतन राम मांझी के यह कहने के बाद कि यदि यह गठबंधन अगले साल सत्ता हासिल करता है, तो वह भी मुख्यमंत्री पद के दावेदार होंगे, राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) और एचएएम शुक्रवार को आमने-सामने आ गये. 
बिहार में चौंकाने वाला होगा भाजपा अध्यक्ष का नाम, नये चेहरे पर लगेगा दांव
मई, 2014 से फरवरी, 2015 तक बिहार के मुख्यमंत्री रहे मांझी ने गुरुवार को मीडिया के सामने यह बयान दिया. उन्होंने लालू प्रसाद यादव के छोटे बेटे और राजद के वरिष्ठ नेता तेजस्वी यादव की अनुभवहीनता के बारे में भी चर्चा की, जिन्हें आरजेडी पहले ही मुख्मयंत्री पद के उम्मीदवार के रूप में पेश कर चुका है. महागठबंधन का एक अन्य घटक दल कांग्रेस भी 2020 के बिहार विधानसभा चुनाव में तेजस्वी यादव को मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार के रूप में पेश करने को लेकर ऊहापोह में है. 
उल्लेखनीय है कि एचएएम अध्यक्ष आरजेडी के युवा नेता तेजस्वी यादव के बहुत बड़े प्रशंसक रहे हैं, जिन्होंने 2015 के विधानसभा चुनाव में महज 25 साल की उम्र में राजनीतिक उपस्थिति दर्ज करायी थी और उन्हें सीधे उपमुख्यमंत्री बनाया गया था. मांझी ने मुख्यमंत्री पद से हटने और नीतीश कुमार के मुख्यमंत्री की कुर्सी पर लौटने के वास्ते मार्ग प्रशस्त करने के लिए कहे जाने पर विरोध स्वरूप जेडीयू छोड़ दिया था और नयी पार्टी एचएएम बनायी थी.
राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) से निकलने और महागठबंधन में शामिल होने के बाद आरजेडी की मदद से अपने बेटे को विधान परिषद में भेज चुके मांझी के मन में लोकसभा चुनाव में महागठबंधन के बहुत खराब प्रदर्शन पर तेजस्वी यादव के नेतृत्व को लेकर संशय पैदा हो गया. पांच दलों के महागठबंधन को बिहार में संसदीय चुनाव में करारी शिकस्त मिली थी और 19 सीटों पर चुनाव लड़ने वाल आरजेडी को एक भी सीट नहीं मिली थी. 
आम चुनाव के बाद के महीनों में तेजस्वी यादव के लंबे समय तक निष्क्रिय रहने और महीने भर चले विधानसभा के मानसून सत्र में नहीं आने पर राजद के सहयोगी दलों में उनके नेतृत्व को लेकर असंतोष बढ़ता गया. इसके अलावा, जब हाल ही में मांझी ने राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव से मुलाकात की, तो कई भृकुटियां तन गयीं. पूर्व राजद सांसद पप्पू यादव तेजस्वी यादव के कटु आलोचक है, उन्हें (पप्पू यादव को) लालू यादव ने पार्टी विरोधी गतिविधियों को लेकर निष्कासित कर दिया था. इसके बाद उन्होंने जन अधिकार पार्टी बनायी थी. 

MOLITICS SURVEY

'ओला-ऊबर के कारण ऑटो सेक्टर में मंदी' - क्या निर्मला सीतारमण के इस बयान से आप सहमत है ?

हाँ
  20.75%
नहीं
  69.81%
कुछ कह नहीं सकते
  9.43%

TOTAL RESPONSES : 53

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know