अभी से चुनावी मिशन पर भाजपा, अनुच्छेद 370 खत्म होने से सदस्यता अभियान को मिली गति
Latest News
bookmarkBOOKMARK

अभी से चुनावी मिशन पर भाजपा, अनुच्छेद 370 खत्म होने से सदस्यता अभियान को मिली गति

By Jagran calender  12-Aug-2019

अभी से चुनावी मिशन पर भाजपा, अनुच्छेद 370 खत्म होने से सदस्यता अभियान को मिली गति

 जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 के खत्म होने के बाद भाजपा के प्रति लोगों में जबर्दस्त आकर्षण बढ़ा है। असर यह है कि उत्तर प्रदेश में प्रतिदिन औसतन सात लाख सदस्य बन रहे हैं। शनिवार तक बनाये गए 1.2 करोड़ सदस्यों में करीब 45 लाख नए सदस्य हैं। यह अभियान 20 अगस्त तक चलना है। सदस्यता अभियान के जरिये भाजपा हर बूथ पर जातीय समीकरण भी मजबूत कर रही है।
विधानसभा का चुनाव 2022 में होना है लेकिन भाजपा अभी अपने मिशन को साधने में जुट गई है। अभियान को गति देने के लिए भाजपा प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह और प्रदेश महामंत्री संगठन सुनील बंसल मोर्चा संभाले हैं। इन दोनों प्रमुख नेताओं का प्रदेशव्यापी दौरा हो रहा है। इधर अभियान प्रमुख व प्रदेश उपाध्यक्ष जेपीएस राठौर और सह प्रमुख तथा प्रदेश महामंत्री गोविंद नारायण शुक्ल ने प्रतिदिन जिलेवार समीक्षा शुरू की है। इसके लिए जिम्मेदार बनाये गए पदाधिकारियों, मंत्री, सांसद और विधायकों की भी मॉनीटरिग हो रही है।
हर दिन मिलने वाली रिपोर्ट से अवगत होने के बाद सभी प्रमुख नेताओं से संवाद किया जा रहा है। जिन क्षेत्रों में अभियान कमजोर है वहां पर प्रभावी लोगों को सक्रिय किया गया है। सदस्यता रसीदों की मांग बढ़ गयी है। 20 अगस्त तक डेढ़ करोड़ से अधिक सदस्य बनाने का लक्ष्य है। सक्रिय सदस्य बनने की भी खूब होड़ लगी है।
मुस्लिम बस्तियों में भी सदस्य बनाने में मिली कामयाबी
उत्तर प्रदेश में 1.67 लाख बूथ हैं। कुछ बूथ परंपरागत रूप से भाजपा के अनुकूल नहीं हैं। इन बूथों के लिए उस क्षेत्र में निवास करने वाली जाति और वर्ग के नेताओं को आगे किया गया है। लोगों से बातचीत कर भाजपा की नीतियों से अवगत कराते हुए उन्हें सदस्य बनने के लिए प्रेरित किया जा रहा है। मऊ, मेरठ, सहारनपुर, बिजनौर, शामली, मुरादाबाद, रामपुर, प्रयागराज, अयोध्या, वाराणसी, भदोही, जौनपुर, गोरखपुर, कुशीनगर जैसे जिलों की मुस्लिम बस्तियों में भी इस बार भाजपा सदस्य बनाने में कामयाब हुई है। पहले यहां के बूथों पर सदस्य बनाना बड़ी चुनौती होती थी।

MOLITICS SURVEY

महाराष्ट्र में अगर शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस के गठबंधन की सरकार बनती है तो क्या उसका हाल भी कर्नाटक जैसा होगा ?

TOTAL RESPONSES : 28

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know