सुष्मा के निधन से उत्तराखंड में शोक की लहर, सीएम समेत कई नेताओं ने जताया दुख
Latest News
bookmarkBOOKMARK

सुष्मा के निधन से उत्तराखंड में शोक की लहर, सीएम समेत कई नेताओं ने जताया दुख

By Dainik Jagran calender  07-Aug-2019

सुष्मा के निधन से उत्तराखंड में शोक की लहर, सीएम समेत कई नेताओं ने जताया दुख

पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के निधन से उत्तराखंड में भी शोक की लहर है। सुष्मा के निधन पर सीएम सहित कई नेताओं ने गहरा दुख जताया। उनके निधन को देश के लिए अपूर्णीय क्षति बताया।  
उत्तराखंड से सुष्मा स्वराज राज्यसभा सदस्य भी रह चुकी थीं। साथ ही उन्होंने देहरादून के ऋषिकेश में एम्स की सौगात भी दी थी। वह उत्तराखंड में भी अत्यंत लोकप्रिय रहीं। उनके निधन की जानकारी मिलते ही में शोक की लहर है। भाजपा नेताओं के साथ ही कांग्रेस ने भी उनके निधन पर गहरा दुख व्यक्त किया। 
उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के निधन से भारतीय राजनीति में जो रिक्तता आई है, उसकी भरपाई असम्भव है। वह एक कुशल प्रशासक, प्रखर वक्ता थीं। उत्तराखंड से भी उनका नाता रहा है। वह यहां से राज्यसभा सदस्य भी रहीं। उनके निधन से सपूर्ण उत्तराखंड दुखी है।
केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री एवं हरिद्वार सांसद डॉ, रमेश पोखरियाल निशंक के मुताबिक, भारतीय राजनीति में सुषमा स्वराज की भूमिका की एक अभिव्यक्ति है। वह एक आसाधारण वक्ता और प्रचारक थीं। भारतीय राजनीति में उनकी भूमिका  किसी राष्ट्रीय राजनीतिक दल की पहली महिला प्रवक्ता, भाजपा की पहली महिला मुख्यमंत्री और नेता प्रतिपक्ष के रूप में हमेशा याद रहेगी। 
उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने कहा कि सुषमा स्वराज प्रखर वक्ता ओर कुशल प्रशासक थीं। किसी राष्ट्रीय राजनीतिक दल की पहली महिला प्रवक्ता, भाजपा की पहली महिला मुख्यमंत्री, पहली केंद्रीय कैबिनेट मंत्री, महासचिव, प्रवक्ता और नवेता प्रतिपक्ष रहीं। उनका निधन देश की अपूरणीय क्षति है।
कैबिनेट मंत्री मदन कौशिक के अनुसार बेहद प्रखर वक्ता, सादगी की प्रतिमूर्ति सुषमा स्वराज हमेशा मार्ग दर्शक की भूमिका के रूप में रहीं। उनके निधन की सूचना स्तब्ध करने वाली है।
भाजपा प्रदेश अध्यक्ष एवं नैनीताल के सांसद अजय भट्ट ने कहा कि पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज  का निधन भारतीय राजनीति के लिए अपूरणीय क्षति है। वह लोकतांत्रिक मूल्यों को संरक्षित करने के लिए अडिग रहीं। वह सरकार में रहीं हों या विपक्ष में, हमेशा लोकतांत्रित मूल्यों के लिए लड़ीं।
उत्तराखंड प्रदेश कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष किशोर उपाध्याय ने कहा कि अत्यंत दु:खद। सुषमा स्वराज जी के ब्रह्मलीन होने से भारतीय राजनीति के एक युग का अंत हो गया। ईश्वर उनके परिजनों व समर्थकों को इस अपूर्णीय क्षति को सहन करने की शक्ति दें।

MOLITICS SURVEY

क्या आरक्षण पर मोहन भागवत के बयान से चुनावों में बीजेपी को नुकसान होगा?

TOTAL RESPONSES : 17

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know