कमलनाथ के भांजे रतुल पुरी को अगस्ता वेस्टलैंड मामले में गिरफ्तारी से मिली राहत
Latest News
bookmarkBOOKMARK

कमलनाथ के भांजे रतुल पुरी को अगस्ता वेस्टलैंड मामले में गिरफ्तारी से मिली राहत

By News18 calender  27-Jul-2019

कमलनाथ के भांजे रतुल पुरी को अगस्ता वेस्टलैंड मामले में गिरफ्तारी से मिली राहत

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के भांजे रतुल पुरी को गिरफ्तारी से राहत मिल गई है. कोर्ट ने अगस्ता वेस्टलैंड मामले में 29 जुलाई तक उन्हें गिरफ्तारी से छूट दे दी है. मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के भांजे रतुल पुरी अगस्तावेस्टलैंड वीवीआईपी हेलीकॉप्टर घोटाले से जुड़े़ धनशोधन मामले में अग्रिम जमानत याचिका के लिए शनिवार को दिल्ली की एक अदालत में अपील की थी. इसी अदालत ने उन्हें राहत दी है.

‘हिंदुस्तान पावरप्रोजेक्ट्स प्राइवेट लिमिटेड’ के अध्यक्ष पुरी ने अदालत से कहा कि मामले में उन्हें गिरफ्तार किए जाने की आशंका है. उन्होंने कहा कि वह जांच में सहयोग कर रहे हैं और उनकी गिरफ्तारी की कोई आवश्यकता नहीं है. शुक्रवार को पुरी कथित तौर पर शौचालय जाने के बहाने प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के जांचकर्ताओं को चकमा देकर निकल गए थे. वह रद्द हो चुके 3600 करोड़ रुपए के हेलीकॉप्टर सौदे से जुड़े मामले में पूछताछ के लिए हाल में प्रवर्तन निदेशालय के समक्ष पेश हुए थे.

गिरफ्तारी के डर से अधिकारियों को चकमा देकर हो गए थे फरार
अधिकारियों ने शनिवार को आरोप लगाया कि पुरी ने जांच अधिकारी से शौचालय जाने के लिए थोड़ा समय मांगा, लेकिन वह गिरफ्तार होने के डर से वापस नहीं लौटे. ऐसा माना जाता है कि एजेंसी के अधिकारियों ने तब उनसे मोबाइल फोन पर संपर्क करने की कोशिश की, लेकिन फोन बंद था. अधिकारियों ने कहा कि एजेंसी पूछताछ के लिए अब उन्हें फिर से सम्मन भेजने पर विचार कर रही है.

मोजर बेयर के सीएमडी हैं पुरी
हिन्दुस्तान पॉवर प्रोजेक्ट्स प्राइवेट लिमिटेड के अध्यक्ष पुरी से एजेंसी विगत में भी इस संबंध में पूछताछ कर चुकी है. वह नीता और दीपक पुरी के बेटे हैं. नीता एमपी के सीएम कमलनाथ की बहन हैं. दीपक पुरी ऑप्टिकल स्टोरेज मीडिया फर्म मोजर बेयर के सीएमडी हैं.

मामले की जांच कर रही है सीबीआई
वीवीआईपी के लिए अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकॉप्टर खरीदने के लगभग 3,600 करोड़ रुपये के सौदे को भारत ने भ्रष्टाचार और रिश्वत के आरोपों के चलते रद्द कर दिया था. मामले की जांच ईडी और केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) द्वारा की जा रही है. जांच एजेंसियां इस मामले में पहले ही कई आरोप पत्र दाखिल कर चुकी हैं.

MOLITICS SURVEY

क्या आरक्षण पर मोहन भागवत के बयान से चुनावों में बीजेपी को नुकसान होगा?

TOTAL RESPONSES : 16

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know