यूपी में हार के जिम्मेदार नेताओं की लिस्ट तैयार, प्रियंका चलाएंगी तलवार!
Latest News
bookmarkBOOKMARK

यूपी में हार के जिम्मेदार नेताओं की लिस्ट तैयार, प्रियंका चलाएंगी तलवार!

By Aaj Tak calender  18-Jul-2019

यूपी में हार के जिम्मेदार नेताओं की लिस्ट तैयार, प्रियंका चलाएंगी तलवार!

राहुल गांधी के कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने के बाद पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व का संकट भले ही बरकरार हो, लेकिन उत्तर प्रदेश के पूर्वांचल में कांग्रेस ने अपनी गलतियों को सुधारने की दिशा में कदम बढ़ा दिया है. राजनीति में चुनावी करियर की शुरुआती पारी में एक के स्कोर पर आउट होने के बाद अब प्रियंका गांधी वाड्रा ने टीम के उन भेदियों की तलाश शुरू कर दी है, जिन्होंने पर्दे के पीछे से कांग्रेस को हराने का काम किया है.
बता दें कि लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस ने प्रियंका गांधी की सक्रिय राजनीति में एंट्री कराते हुए महासचिव बनाया और पूर्वी उत्तर प्रदेश के प्रभारी की जिम्मेदारी सौंपी थी. प्रियंका ने पूर्वांचल में जमकर मेहनत की थी, लेकिन पार्टी को हार से नहीं बचा सकीं. इतना ही नहीं कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को अमेठी संसदीय सीट पर बीजेपी की स्मृति ईरानी के हाथों करारी हार का मुंह देखना पड़ा. महज सोनिया गांधी ही रायबरेली से जीत सकीं और महज चार प्रत्याशी अपनी जमानत बचाने में कामयाब हो सके.
कांग्रेस को यूपी में मिली हार ने प्रियंका गांधी को हिलाकर रख दिया. यही वजह है कि प्रियंका की रणनीति साफ है जिन नेताओं ने विरोधियों के साथ मिलकर सांठगांठ की उसको पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाया जाए. इसके लिए उन्होंने यूपी में तीनों नेताओं की बकायदा अनुशासनात्मक कमेटी बनाई थी, इसकी जिम्मेदारी पूर्व विधायक अनुग्रह नारायण सिंह, विनोद चौधरी और राम जियावन को सौंपी थी. कांग्रेस की इस अनुशासन समिति ने अपनी  रिपोर्ट तैयार कर ली है और जल्द ही वो प्रियंका गांधी को सौंपेगे.
कांग्रेस सूत्रों के मुताबिक कांग्रेस की अनुशासन समिति को कुल 33 शिकायतें मिली थीं, इनमें से 27 शिकायतों की पड़ताल की गई. यूपी में जिन जिलों से शिकायतें आई हैं, उनमे नेहरू-गांधी परिवार की कर्मभूमि इलाहाबाद और फूलपुर जिले भी शामिल हैं. इसके अलावा कौशांबी, गोंडा, बहराइच, अंबेडकर नगर और मऊ जैसे जिलों में कांग्रेस प्रत्याशियों ने भितरघात की शिकायत की थी.
आजतक को मिली जानकारी के मुताबिक अनुशासन समिति ने 5 जिलों की शिकायतों पर कार्रवाई पूरी कर ली है. इस संबंध में अनुशासन समिति के सदस्यों ने प्रियंका गांधी से भी मुलाकात कर उनके सामने सारी बातें रख दी हैं. माना जा रहा है कि 24 घंटे के भीतर कांग्रेस इन भितरघाती नेताओं पर गाज गिर सकती है.
अनुशासन समिति ने शिकायतों पर दिए गए सारे सबूतों की भी जांच की है. कांग्रेस के जिन नेताओं पर आरोप लगाए गए हैं, उनसे भी बकायदा जवाब मांगा है. इसके बाद ही फैसला लिया है. जुलाई के आखिर तक सभी शिकायतों पर कार्रवाई पूरी हो जाएगी. हालांकि कुछ शिकायतें फर्जी पाईं गईं या जिनके साथ कोई साक्ष्य नहीं थे उन्हें रद्द कर दिया.

MOLITICS SURVEY

क्या आरक्षण पर मोहन भागवत के बयान से चुनावों में बीजेपी को नुकसान होगा?

TOTAL RESPONSES : 29

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know