आरएसएस और बीजेपी के लिए क्यों महत्वपूर्ण है बीजेपी में संगठन मंत्री का पद ?
Latest News
bookmarkBOOKMARK

आरएसएस और बीजेपी के लिए क्यों महत्वपूर्ण है बीजेपी में संगठन मंत्री का पद ?

By Theprint calender  14-Jul-2019

आरएसएस और बीजेपी के लिए क्यों महत्वपूर्ण है बीजेपी में संगठन मंत्री का पद ?

 13 सालों से बीजेपी संगठन महामंत्री के रूप में आरएसएस और बीजेपी के बीच समन्वय का काम देख रहे रामलाल को हटाने के बाद नए संगठन मंत्री की नियुक्ति प्रक्रिया तेज हो गई है. रामलाल के बाद वरिष्ठ होने के नाते गुजरात, महाराष्ट्र, राजस्थान और आंध्र प्रदेश जैसे बड़े राज्यों का काम देख रहे सह संगठन मंत्री वी सतीश का नाम संगठन महासचिव के पद के लिए सबसे आगे है. वैसे अन्य नामों में पश्चिमी उत्तर प्रदेश बंगाल और उत्तराखंड राज्यों में संगठन का काम देख रहे शिव प्रकाश और उत्तर प्रदेश में विधानसभा और लोकसभा में विजय रथ दौड़ाने वाले युवा सुनील बंसल का नाम भी रेस में शामिल है.
बीजेपी संगठन में अध्यक्ष के बाद सबसे ताक़तवर पद संगठन महासचिव का माना जाता है. जिसके लिए आरएसएस अपने कैडर से किसी प्रचारक को डेप्युटेशन पर एक समय सीमा के लिए बीजेपी भेजता है. जिसकी ज़िम्मेदारी दोनों संगठनों के बीच समन्वय का काम देखना होता है. संगठन महासचिव का यह पद बीजेपी संगठन के पावर श्रृंखला में महासचिव और उपाध्यक्ष के पद से महत्वपूर्ण माना जाता है .
कौन हैं वी सतीश ?
आरएसएस के गढ़ नागपुर ज़िले में जन्में वी सतीश इस समय बीजेपी संगठन में सह संगठन मंत्री का दायित्व निभा रहे है और आमतौर पर मीडिया से दूर रहने वाले सतीश के ज़िम्मे पश्चिमी भारत के बड़े राज्य हैं. जिनमें महाराष्ट्र, गुजरात, राजस्थान और आंघ्र प्रदेश शामिल है. गुजरात में संगठन मंत्री के रूप में काम करने के कारण वी सतीश प्रधानमंत्री मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के क़रीबी माने जाते है .उत्तर पूर्व के राज्य ख़ासकर असम में काम करने वाले वी सतीश का प्रचारक जीवन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से शुरू होकर फुलटाईम प्रचारक बन गए. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह-सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसाबले के क़रीबी माने जाने वाले वी सतीश अगर संगठन महासचिव बनते है, तो मोदी शाह के लिए संघ से और बेहतर तालमेल बनाकर काम करना आसान होगा पर देखने वाली बात यह है कि फैसले लेने की प्रक्रिया में अमित शाह अगर वी सतीश को नहीं चुनते तब उसकी व्याख्या दूसरे तरीके से की जाएगी .
पश्चिम बंगाल में भाजपा को मज़बूत करने वाले- शिव प्रकाश
पश्चिम बंगाल में बीजेपी के बूथ लेवल से राज्य स्तर तक संगठन की नींव बनाने वाले शिव प्रकाश बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के साथ तारतम्य बिठाकर अपना सर्वऋेष्ठ प्रदर्शन दिखा चुके हैं. चार सह संगठन मंत्री में शामिल शिव प्रकाश के पास उत्तराखंड का भी दायित्व है. 2014 लोकसभा चुनाव में शिव प्रकाश की संगठनात्मक क्षमताओं से वाक़िफ़ हुए अमित शाह ने 2015 में लोकसभा चुनाव के बाद पश्चिम बंगाल की ज़िम्मेदारी शिव प्रकाश के हवाले कर दी थी. शिव प्रकाश ने बीजेपी प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय और अरविन्द मेनन के साथ मिलकर 2016 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी का मत प्रतिशत 4 प्रतिशत से बढ़ाकर 11 प्रतिशत तक पंहुचा दिया और पंचायत चुनावों में यह 40 प्रतिशत तक पहुंच गया.
लोकसभा चुनाव में बीजेपी को 18 सीटें दिलाकर शिव प्रकाश ने अपनी संगठनात्मक क्षमता का लोहा मनवाया. निर्णय लेने की प्रक्रिया में ठसक दिखाने वाले शिवप्रकाश को कई बार बीजेपी के जनाधार वाले नेताओं से मुठभेड़ भी करनी पडी है. 2019 के लोकसभा चुनाव के पहले उत्तराखंड बीजेपी की कोर कमेटी की एक बैठक में एक उम्मीदवार विशेष की तरफ़दारी करने पर पूर्व मुख्यमंत्री भगत सिंह कोश्यारी ने शिवप्रकाश को जमकर लताड़ा था.
बीजेपी संगठन मंत्री रामलाल की सहायता करने वाले दो अन्य बीजेपी सह संगठन मंत्रियों में छत्तीसगढ़ झारखंड और उड़ीसा का संगठन देखने वाले सौदान सिंह और दक्षिण भारत का काम देख रहे बीएल संतोष है पर बीजेपी सूत्रों के मुताबिक उन्हें संगठन मंत्री के रूप में पदोन्नत करने की संभावना नहीं दिखती है .
क्यों है महत्वपूर्ण बीजेपी संगठन मंत्री का पद?
बीजेपी संगठन मंत्री की नियुक्ति के लिए संघ की तरफ से प्रचारक डेप्युटेशन पर भेजें जाते है जो मुख्य रूप से आरएसएस सुप्रीमो के निर्देशों को बीजेपी में लागू कराने का काम देखते है .आरएसएस और बीजेपी के बीच समन्वय का काम देखना संगठन मंत्री का मुख्य काम है. रोज़मर्रा के कामों के साथ संघ की विचारधारा के मुताबिक बीजेपी चले इसकी निगरानी करना और संघ सुप्रीमों तक इसकी रिपोर्ट देना भी संगठन महासचिव के ज़िम्मे ही है. चूंकि, इस पद पर नियुक्ति के लिए संघ बीजेपी में प्रचारक भेजता है, तो उनकी पहली प्राथमिकता संघ से जुड़ी होती है. बैक रूम ब्याय बनकर संगठन के विस्तार करने की योजनाओं को देखना, प्रचारकों के देशव्यापी कार्यक्रमों को चुनाव के समय बीजेपी की ज़रूरतों के मुताबिक अमलीजामा पहनाना, संगठन की कमियों की पहचान करना, आरएसएस का फ़ीडबैक बीजेपी को देना और बीजेपी हाईकमान की राय संघ तक पहुंचाने का काम भी संगठन मंत्री के ज़िम्मे ही है .
जब आडवाणी को पार्टी अध्यक्ष से हटाने का मसौदा संजय जोशी ने तैयार किया था
इस पद के महत्व को आप सिर्फ इस उदाहरण से समझ सकतें है कि 2004 में जब बीजेपी अध्यक्ष और बीजेपी के लौहपुरूष आडवाणी पाकिस्तान में जिन्ना की मज़ार पर उनकी तारीफ़ की थी, तो संघ के निर्देश पर बुलाई गई बीजेपी संसदीय बोर्ड की बैठक में अपने ही अध्यक्ष आडवाणी के खिलाफ प्रस्ताव पारित करने की हिम्मत न ताक़तवर बीजेपी महासचिव प्रमोद महाजन में थी न ही सुषमा और अरूण जेटली में पर सगठन महासचिव संजय जोशी ने न केवल आडवाणी की आलोचना का प्रस्ताव डाफ्ट कराया, बल्कि बीजेपी संसदीय बोर्ड ने उसे पारित किया. दिल्ली आने के बाद नाराज आडवाणी को संघ के दबाब में अपने त्यागपत्र की घोषणा करनी पड़ी.
अपने समय में रामलाल से ताक़तवर समझे जाने वाले संगठन मंत्री संजय जोशी को हटाने के लिए तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी ने तब के बीजेपी अध्यक्ष नितिन गडकरी के सामने शर्त रख दी थी कि वे मुंबई की कार्यसमिति में तभी आएंगे जब संघ की दखल के बाद दोबारा बीजेपी में शामिल हुए संजय जोशी का इस्तीफा नहीं होता. संजय जोशी के इस्तीफे के ऐलान के बाद ही मोदी 2012 में मुंबई की बीजेपी कार्यसमिति में भाग लेने पहुंचे थे. लेकिन, रामलाल ताक़तवर संजय जोशी के मुक़ाबले ज्यादा लो प्रोफ़ाइल रहकर और बिना अड़ियल रवैया अपनाते हुए तीन बीजेपी अध्यक्ष राजनाथ सिंह, गडकरी और अमित शाह के साथ काम करते हुए राजनैतिक टकराहट से हमेशा दूर रहे .
संघ अपने प्रचारकों को मूल कैडर में वापस बुलाता रहा है
ऐसा नहीं है कि संघ ने अपने प्रचारकों को डेप्युटेशन से हटाकर मूल कैडर में पहली बार वापस बुलाया हो पर पिछले तीस सालों में यह पहला मौका है, जब राष्ट्रीय संगठन मंत्री को संघ ने राजनैतिक संगठन बीजेपी से हटाकर मूल कैडर में वापसी कराई हो. राज्यों की बात करें, तो 2015 में यूपी के बीजेपी संगठन मंत्री राकेश जैन को हटाकर संघ ने अपने कैडर सेवा भारती का काम देखने को दिया था. अब नए फेरबदल में उन्हें संघ की राष्ट्रीय पर्यावरण ईकाई का इंचार्ज बनाया गया है.
2008 में राजस्थान ईकाई में संगठन मंत्री रहे प्रकाश जी को बीजेपी से हटाकर संघ ने अपनी ईकाई लघु भारती का काम सौंपा था. राज्यों में ऐसे बदलाव अक्सर संघ तब करता है जब वहां के मुख्यमंत्री और संगठन मंत्री दोनों में छत्तीस के आंकड़े रहतें है या उन पर लगे भष्रचाचार के आरोप लगते हैं बीजेपी सूत्रों के मुताबिक रामलाल के मामले में ये दोनों कारण नहीं दिखते. आरएसएस के एक प्रचारक के मुताबिक रामलाल की पिछले दो साल से बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह से उन्हें निवृत करने का अनुरोध ही एक सामने दिखने वाला कारण है.

MOLITICS SURVEY

ट्रैफिक रूल्स में हुए नए बदलाव जनता के लिए !

फायदेमंद
  33.33%
नुकसानदायक
  66.67%

TOTAL RESPONSES : 24

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know