ऐसे संविधान के होने का क्या मतलब जिसमें समाज के लोगों को बराबरी का हक नहीं
Latest News
bookmarkBOOKMARK

ऐसे संविधान के होने का क्या मतलब जिसमें समाज के लोगों को बराबरी का हक नहीं

By Jagran calender  11-Jun-2019

ऐसे संविधान के होने का क्या मतलब जिसमें समाज के लोगों को बराबरी का हक नहीं

हमारे देश का संविधान सब नागरिकों को बराबरी का अधिकारी देता है। नागरिक छोटा हो या बड़ा, अमीर हो या गरीब, पुरुष हो या महिला, उन्हें बराबरी का हक मिलना चाहिए। अगर इसके बाद भी सबको बराबरी का हक नहीं मिलता तो ऐसे संविधान के होने या न होने से कोई फर्क नहीं पड़ता।
यह कहना है सीनियर एडवोकेट अशोक बसौत्र का। जागरण विमर्श में उन्होंने बेबाकी से अपने विचार रखे। उनका कहना है कि अनुच्छेद 370 जम्मू कश्मीर को एक विशेष पहचान तो दिलवाता है, लेकिन यह उन लोगों को बराबरी के अधिकार से भी वंचित करता है, जिनकी तीन तीन पीढिय़ां यहां रह चुकी हैं। यह सभी जानते हैं कि जम्मू कश्मीर के राजाओं ने दूसरे राज्यों में शादियां कीं। उनकी रानियों के साथ कई लोग जम्मू में आकर बस गए। दशकों से उन लोगों के परिवार अब यहीं हैं, लेकिन उन्हें अभी तक राज्य का नागरिक होने का अधिकारी नहीं मिला है। ऐसा ही हाल उस बाल्मीकि समाज का भी है, जिन्हें 50 के दशक में पंजाब से जम्मू कश्मीर में सफाई व्यवस्था के लिए लाया गया था। इस समाज के बच्चे भी अब पढ़ लिख गए हैं, लेकिन राज्य की नागरिकता न मिलने के चलते वे भी दरबदर हो रहे हैं।

MOLITICS SURVEY

क्या कांग्रेस का महागठबंधन से अलग रह के चुनाव लड़ने की वजह से बीजेपी को पूर्ण बहुमत मिला है?

हाँ
  51.35%
नहीं
  43.24%
अनिश्चित
  5.41%

TOTAL RESPONSES : 37

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know