पग-पग पर खतरे के बावजूद नक्सलियों के गढ़ में चौपाल लगाएंगे सूबे के मुखिया भूपेश बघेल
Latest News
bookmarkBOOKMARK

पग-पग पर खतरे के बावजूद नक्सलियों के गढ़ में चौपाल लगाएंगे सूबे के मुखिया भूपेश बघेल

By News State calender  01-Jun-2019

पग-पग पर खतरे के बावजूद नक्सलियों के गढ़ में चौपाल लगाएंगे सूबे के मुखिया भूपेश बघेल

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल अब बस्तर के धूर नक्सल प्रभावित चार स्थानों पर चौपाल लगाएंगे. झुलसा देने वाली गर्मी और पग-पग पर माओवादी खतरा होने के बावजूद सीएम के इस साहस को एक नई पहल के तौर पर देखा जा रहा है. दरअसल सुकमा, बीजापुर और कोंडागांव जिले में आयोजित इस चौपाल में सीएम भूपेश बघेल माओवाद पीडितों से चर्चा करेंगे. इस दौरान सीएम बघेल स्थानीय लोगों से चर्चा के बाद कुछ बड़े फैसले भी ले सकते हैं ताकि बस्तर का विकास सरपट दौड़ सके.
यह भी पढ़ें-  अमेरिका ने भारत से जीएसपी दर्जा छीना, 5 जून से होगा लागू
सीएम बघेल गुरुवार को जगदलपुर में थे. आज सुबह पुलिस परफारमेंस सेंटर का उद्घाटन कर सुकमा जिले के पोलमपल्ली के लिए रवाना हुए. जहां चौपाल लगाकर नक्सल प्रभावितों से चर्चा करेंगे. इस चौपाल के बाद सीएम बघेल बीजापुर जिले के भोपालपट्‌टनम में भी चौपाल लगाएंगे. यहां से निकलकर वे बस्तर जिले के भोंड में स्थानीय लोगों से रूबरू होंगे. फिर कोंडागांव जिले के बड़े कनेरा में भी चौपाल लगाकर लोगों से नक्सल समस्या को लेकर चर्चा करेंगे. सीएम बनने के बाद भूपेश बघेल का माओवाद प्रभावित इलाकों में यह पहला बड़ा कार्यक्रम हैं.
यह भी पढ़ें- वायनाड में किसान की आत्महत्या पर मदद को आगे आए सांसद राहुल गांधी
बता दें कि सीएम भूपेश बघेल सत्ता संभालते ही उन्होने इस बात का जिक्र करते हुए कहा था कि माओवादी समस्या के निपटारे के लिए पीड़ित पक्षों से बात करेंगे, क्योंकि जो पीड़ित हैं और जो इसे करीब से देख रहे हैं, उनसे बेहतर इस मसले पर कोई भी बात नहीं कर सकता. वही पोलमपल्ली जहां ताड़मेटला कांड हुआ था, वहां आठ साल पहले रमन सिंह  के मुख्यमंत्रित्व काल में 2011 में सुकमा जिले में हुए बहुचर्चित ताड़मेटला आगजनी कांड की घटना का कांग्रेस ने जमकर विरोध किया था. इस घटना में ढ़ाई सौ से अधिक स्थानिय रहवासियों की झोपडियां जला दी गई थी.

MOLITICS SURVEY

क्या कांग्रेस का महागठबंधन से अलग रह के चुनाव लड़ने की वजह से बीजेपी को पूर्ण बहुमत मिला है?

हाँ
  51.35%
नहीं
  43.24%
अनिश्चित
  5.41%

TOTAL RESPONSES : 37

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know