क्या 'भीड़तंत्र' से कमज़ोर नहीं होगा लोकतंत्र?