पहली पुण्यतिथि‌‌‌: अटल बिहारी वाजपेयी के व्यक्तित्व से जुड़ी 5 दिलचस्प कहानियां
Latest News
bookmarkBOOKMARK

पहली पुण्यतिथि‌‌‌: अटल बिहारी वाजपेयी के व्यक्तित्व से जुड़ी 5 दिलचस्प कहानियां

By Aajtak calender  16-Aug-2019

पहली पुण्यतिथि‌‌‌: अटल बिहारी वाजपेयी के व्यक्तित्व से जुड़ी 5 दिलचस्प कहानियां

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की आज शुक्रवार को पहली पुण्यतिथि है. पिछले साल 16 अगस्त की शाम 5:05 बजे नियति ने देश के प्रखर वक्ता और महान नेता को हमसे छीन लिया. उनका व्यक्तित्व इतना विशाल था कि विपक्षी भी उनके मुरीद थे. उनकी पहली पुण्यतिथि पर जानते हैं उनके विशाल व्यक्तित्व से जुड़ी 5 अहम बातें.
1. दूसरों के लिए प्रेरणस्रोत
भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी बेहद नम्र इंसान थे और वह अंहकार से कोसों दूर थे. पिछले साल उनके निधन पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने वाजपेयी के बारे में कहा था, 'पूर्व प्रधानमंत्री वाजपेयी में अहंकार बिल्कुल भी नहीं था और मैं उन्हीं से प्रेरित होकर विनम्रता को आत्मसात करने का प्रयास करता रहता हूं.' राष्ट्रपति ने कहा ने संसद में उनके साथ का अनुभव साझा करते हुए बताया था, 'जब वो देश के प्रधानमंत्री थे, उस समय मैं राज्यसभा सांसद था. संसद के गलियारों में हमेशा मेरा और उनका आमना-सामना हो जाता था. मैंने देखा कि ऐसे अवसरों पर वाजपेयी दूर से ही नमस्कार किया करते थे.'
राष्ट्रपति कोविंद ने कहा, 'वाजपेयी के इस व्यवहार को देखकर मुझे कभी-कभी आत्मग्लानि भी होती थी कि कहां मैं एक छोटा सा सांसद और कहां वाजपेयी देश के प्रधानमंत्री. वाजपेयी में अहंकार की भावना दूर-दूर तक नहीं थी और मैं हमेशा सोचता था कि अहंकार मुक्त सार्वजनिक जीवन बहुत अच्छा होता है. ये मैंने उन्हीं से सीखा और मैं अपने जीवन में भी इस विनम्रता को आत्मसात करने का प्रयास करता रहता हूं.'
2. वाकपटुता और चार्तुय शैली
अटल बिहारी वाजपेयी के निधन पर उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने उन्हें याद करते हुए कहा, 'अटल बिहारी वाजपेयी मेयर चुनाव के दौरान मेरे समर्थन में सभा करने लखनऊ पहुंचे थे. उन्हें तेज बुखार था. उन्होंने भाषण की शुरुआत की और कहा कि वो अपनी छवि मुझमें देखते हैं. उन्होंने अपने संबोधन में जनता से कहा कि अगर वो वाकई इस नारे को मानती है कि 'हमारा नेता कैसा हो, अटल बिहारी जैसा हो' तो उसे मेरा समर्थन करना चाहिए.'
दिनेश शर्मा ने आगे कहा, 'वाजपेयी के भाषणों का जनता पर बहुत असर होता था. उन्होंने जनता से पूछा कि अगर वो केवल कुर्ता पहनें और पायजामा न पहनें तो कैसे दिखेंगे? अटल के इस सवाल पर जनता हैरत में थी कि दरअसल वाजपेयी कहना क्या चाहते हैं? इस बीच किसी ने कहा ... खराब दिखेंगे. इस पर तुरंत वाजपेयी ने कहा कि लखनऊ से सांसद का चुनाव जिताकर आप लोगों ने मुझे कुर्ता दिया. मुझे नगर निगम मेयर चुनाव में जीत दर्जकर पायजामा भी चाहिए.'
पूर्व PM वाजपेयी की पहली पुण्यतिथि, राष्ट्रपति-PM समेत दिग्गजों ने दी श्रद्धांजलि
3. मिलनसार व्यक्तित्व
वाजपेयी के निधन के एक दिन बाद जया जेटली ने एक तस्वीर टि्वटर पर शेयर की थी, जो उनकी बेटी अदिति और पूर्व क्रिकेटर अजय जडेजा की शादी की है. इसमें अटल बिहारी वाजपेयी और माधुरी दीक्ष‍ित साथ नजर आते हैं. जया ने इसका खुलासा किया कि जब माधुरी दीक्षित वहां से जाने लगीं तो वाजपेयी ने उन्हें मिलने के लिए गेट से वापस बुलाया था.
4. पितृतुल्य इंसान
उनके निधन पर लता मंगेशकर ने लिखा कि उनके निधन से मेरे सर पर पहाड़ सा टूट पड़ा है. वो मेरे लिए पिता समान थे. लता मंगेशकर ने कहा, 'पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी जी के स्वर्गवास की खबर सुनकर मुझे ऐसे लगा जैसे मेरे सर पर पहाड़ टूटा हो. क्योंकि मैं उनको पिता समान मानती थी और उन्होंने मुझे अपनी बेटी बनाया था.' उन्होंने आगे कहा, 'मुझे वो इतने प्रिय थे कि मैं उनको दद्दा कहके बुलाती थी. अटलजी के भाषण में सब सच होता था. वे सच्चे और अच्छे इंसान थे. कभी किसी का दिल नहीं दुखाया.'
5. चमत्कारिक व्यक्तित्व
बात 1957 की है जब अटल ब‍िहारी वाजपेयी बलरामपुर लोकसभा सीट से 10 हजार वोटों से जीतकर पहली बार लोकसभा पहुंचे थे. पिछली हार से सबक लेते हुए 1962 के आम चुनाव में कांग्रेस ने अटल बिहारी वाजपेयी को हराने के लिए गांधीवादी शुभद्रा जोशी को उनके ख‍िलाफ मैदान में उतारा था. दोनों ही भारत छोड़ो आंदोलन का हिस्सा रहे थे, लेकिन विचारधारा के स्तर पर अलग थे.
पहली बार संसद पहुंचे युवा अटल का भाषण सुनकर तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू बेहद प्रभावित हुए. वे उन्हें भविष्य का प्रधानमंत्री मानते थे. वाजपेयी को बलरामपुर सीट से कांग्रेस की जीत के लि‍ए उन्होंने बड़ा खतरा माना. मतदाताओं पर अपना प्रभाव जमाने के लिए उन्होंने शुभद्रा जोशी के पक्ष में लोक्रप्रिय फिल्म अभ‍िनेता बलराज साहनी से चुनाव प्रचार कराया. नतीजतन, वाजपेयी चुनाव हार गए.

MOLITICS SURVEY

क्या आरक्षण पर मोहन भागवत के बयान से चुनावों में बीजेपी को नुकसान होगा?

TOTAL RESPONSES : 14

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know