कांग्रेस को मिला अंतरिम अध्यक्ष लेकिन तलाशने होंगे राज्यों के अध्यक्ष
Latest News
bookmarkBOOKMARK

कांग्रेस को मिला अंतरिम अध्यक्ष लेकिन तलाशने होंगे राज्यों के अध्यक्ष

By Aaj Tak calender  14-Aug-2019

कांग्रेस को मिला अंतरिम अध्यक्ष लेकिन तलाशने होंगे राज्यों के अध्यक्ष

सोनिया गांधी के रूप में अंतरिम अध्यक्ष मिलने से भले ही कांग्रेस राहत महसूस कर रही हो, लेकिन अभी पार्टी की उन राज्यों को लेकर चिंता साफ नजर आ रही है, जहां अगले कुछ महीनों में विधानसभा चुनाव होने हैं. लोकसभा सभा चुनावों में कांग्रेस को मिली करारी हार के बाद अध्यक्ष पद से राहुल गांधी के इस्तीफा देने के बाद से पार्टी के कई प्रदेश अध्यक्षों ने भी अपने पद से त्याग पत्र दे दिए थे.
कुछ प्रदेशों में कांग्रेस अध्यक्ष चुने जाने के सवालों को कुछ देर के लिए टाल भी दिया जाए तो उन राज्यों की अनदेखी नहीं की जा सकती है, जहां विधानसभा चुनाव होने वाले हैं. हरियाणा, महाराष्ट्र, झारखंड में कुछ ही महीनों में चुनाव होने वाले हैं जबकि शीला दीक्षित के निधन ने बाद से दिल्ली में कांग्रेस अध्यक्ष का पद खाली पड़ा हुआ है जो कि आगामी विधानसभा चुनाव के लिहाज से अहम हैं.
कांग्रेस का अंतरिम अध्यक्ष बनने के बाद सोनिया गांधी के सामने विधानसभा चुनाव को देखते हुए कई बड़ी चुनौतियां हैं, जहां उन्हें फौरन फैसला लेने की जरूरत पार्टी महसूस कर रही है. बताया जा रहा है कि कांग्रेस में कुछ शुरुआती फैसले होने वाले हैं. सबसे पहले नजर उन राज्यों पर है, जहां विधानसभा के चुनाव होने हैं. 10 अगस्त को देर रात अंतरिम अध्यक्ष चुने जाने के बाद रविवार और ईद-उल-अजहा की छुट्टी के बाद सोनिया गांधी मंगलवार से सक्रिय हो जाएंगी. ऐसे कयास लगाए जा रहे हैं.
अंतरिम अध्यक्ष पद संभालने वालीं सोनिया गांधी के सामने बड़ी चुनौतियां हैं. उनके सामने शीला दीक्षित के निधन के बाद दिल्ली के नए अध्यक्ष की नियुक्ति की चुनौती है. झारखंड में प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार अपने इस्तीफे में सुबोधकांत सहाय, प्रदीप बालमुचू समेत राज्य के बड़े नेताओं को निशाने पर ले चुके हैं. वहां नए अध्यक्ष की नियुक्ति और गुटबाजी को शांत करना बड़ी चुनौती है.
हरियाणा में प्रदेश अध्यक्ष अशोक तंवर और पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा का विवाद किसी से छिपा नहीं है. हुड्डा खुलेआम तंवर को बदलने की मांग कर चुके हैं. साथ ही अपनी ताकत दिखाने के लिए 18 अगस्त को रैली बुला चुके हैं. माना जा रहा है कि प्रभारी गुलाम नबी आजाद लगातार हुड्डा के संपर्क में हैं, क्योंकि कुछ लोग उनके नई पार्टी बनाने की अटकलें भी लगा रहे हैं. इसके अलावा महाराष्ट्र में एनसीपी से तालमेल और सीटों के बंटवारे को अंतिम रूप देना भी चुनौती है.
सात प्रदेश अध्यक्ष दे चुके हैं इस्तीफा
अभी हाल ही में पार्टी के तीन और प्रदेश अध्यक्षों ने अपने इस्तीफे दे दिए हैं. इसके साथ ही इस्तीफा देने वाले प्रदेश अध्यक्षों की संख्या सात हो गई है. कांग्रेस पार्टी के झारखंड, असम और पंजाब के अध्यक्षों ने इस्तीफा दे दिया है. इसके पहले महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश और ओडिशा के अध्यक्षों ने इस्तीफा दिया था. कर्नाटक प्रदेश की प्रचार समिति के अध्यक्ष एच.के. पाटील भी इस्तीफा दे चुके हैं.
महाराष्ट्र कांग्रेस के अध्यक्ष अशोक चव्हाण, उत्तर प्रदेश के पार्टी अध्यक्ष राज बब्बर, और ओडिशा कांग्रेस के अध्यक्ष निरंजन पटनायक पहले ही अपने इस्तीफे सौंप चुके हैं. उत्तर प्रदेश के अमेठी जिले के कांग्रेस अध्यक्ष योगेंद्र मिश्रा ने भी राहुल गांधी की अमेठी में हार की नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए इस्तीफा दे दिया है.
पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष सुनील जाखड़ गुरुदासपुर सीट पर अभिनेता सन्नी देओल के हाथों हारने की नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए तत्कालीन पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी को अपना इस्तीफा भेज चुके हैं. हालांकि कांग्रेस ने पंजाब की 13 में से आठ सीटें जीत कर अच्छा प्रदर्शन किया था.

MOLITICS SURVEY

क्या आरक्षण पर मोहन भागवत के बयान से चुनावों में बीजेपी को नुकसान होगा?

TOTAL RESPONSES : 37

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know