अनुच्छेद 370 : श्रीनगर में 10 हज़ार लोगों का विरोध प्रदर्शन
Latest News
bookmarkBOOKMARK

अनुच्छेद 370 : श्रीनगर में 10 हज़ार लोगों का विरोध प्रदर्शन

By Satyahindi calender  11-Aug-2019

अनुच्छेद 370 : श्रीनगर में 10 हज़ार लोगों का विरोध प्रदर्शन

अनुच्छेद 370 में बदलाव करने के केंद्र सरकार के फ़ैसले के ख़िलाफ़ जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर में ज़बरदस्त विरोध प्रदर्शन हुआ है। शहर के मुख्य चौक की ओर कूच कर रहे हज़ारों प्रदर्शनकारियों को पुलिस ने बीच में ही रोक दिया। उन्हें तितर-बितर करे के लिए पुलिस ने आँसू गैस के गोल छोड़े और हवा में गोलियाँ चलाईं। 
कर्फ्यू के बीच प्रदर्शन
टेलीविज़न चैनल अल जज़ीरा ने ख़बर दी है कि इस विरोध प्रदर्शन में लगभग 10 हज़ार लोगों ने भाग लिया, जिनमें महिलाएँ और बच्चे भी थे। इनके हाथों में झंडे थे, तख्तियाँ थीं और ये नारे लगा रहे थे, ‘हमें चाहिए आज़ादी’, ‘अनुच्छेद 370 ख़त्म करना हमें स्वीकार नहीं।’ ये भारत विरोधी नारे भी लगा रहे थे। यह भीड़ शुक्रवार को जुमे की नमाज़ के बाद सड़कों पर निकली थी । चप्पे-चप्पे पर सुरक्षा बल मौजूद थे ।नमाज़ के लिये कर्फ़्यू और धारा 144 में थोडी ढील दी गयी थी । शौरा इलाके से निकली भीड़ को बीच में ही रोकने के लिए सुरक्षा बलों ने रबड़ की गोलियाँ भी दागीं। 
हिंसा भड़केगी?
अल जज़ीरा ने यह भी ख़बर दी है कि कुछ प्रदर्शनकारियों ने बेहद गुस्से के अंदाज में कहा कि वे भारत सरकार के फ़ैसले को किसी सूरत में स्वीकार नहीं करेंगे और अब ज़रूरत पड़ने पर हिंसा पर उतारू होंगे। समाचार एजेन्सी रॉयटर्स का कहना है कि शूरा से निकली हज़ारों की भीड़ को पुलिस ने आईवा पुल के पास रोक दिया और किसी सूरत में आगे जाने की अनुमति नहीं दी। पुलिस ने दोनों ओर से भीड़ को खदेड़ना शुरू किया तो कुछ लोगों ने पुल के ऊपर से पानी में छलाँग लगा दी, ऐसा करने वालों में महिलाएँ और बच्चे भी थे।
नमाज़ के बाद प्रदर्शन
बीबीसी ने भी अपनी रिपोर्ट में इस प्रदर्शन का ज़िक्र किया है । बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक़ श्रीनगर के शौरा इलाके में विरोध प्रदर्शन देखने को मिला। सरकार की ओर से इसे एक छोटा-मोटा प्रदर्शन कहा गया । सौरा के सबसे बड़े अस्पताल शेर-ए-कश्मीर इंस्टीच्यूट ऑफ़ मेडिकल साइंसेज से सड़क ईदगाह की तरफ जाती है, उस रास्ते पर करीब आधे घंटे में ही हज़ारों की तादाद में लोग इकट्ठा हो गए थे। सौरा इंस्टीट्यूट में आठ घायलों को लाया गया, जिसमें दो महिलाएँ भी शामिल थीं। एक नौजवान के पैर में गोली लगी हुई थी और बाकी लोगों को पैलेट लगे हुए थे।
ये सभी लोग विरोध प्रदर्शन कर रहे थे। शुरुआत में तो सुरक्षाबलों ने इन लोगों को जाने दिया, लेकिन कुछ देर बाद सुरक्षाबलों की ओर से फ़ायरिंग की गई। पहले पुलिस ने हवा में फ़ायरिंग की, लेकिन उसके बाद उन्होंने पैलेट गन का भी इस्तेमाल किया। इससे वहाँ भगदड़ की स्थिति बन गई, लोग खुद को बचाने के लिए यहाँ-वहाँ भागने लगे। लेकिन पुलिस और प्रशासन ने इससे साफ़ इनकार करते हुए कहा है कि स्थिति बिल्कुल सामान्य है और छिटपुट वारदात छोड़ कोई बड़ी अप्रिय घटना नहीं हुई है। 

MOLITICS SURVEY

क्या आरक्षण पर मोहन भागवत के बयान से चुनावों में बीजेपी को नुकसान होगा?

TOTAL RESPONSES : 17

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know