हर पंचायत समिति पर बनेगे 50 सड़क सुरक्षा अग्रदूत - खाचरियावास
Latest News
bookmarkBOOKMARK

हर पंचायत समिति पर बनेगे 50 सड़क सुरक्षा अग्रदूत - खाचरियावास

By Khaskhabar calender  25-Jun-2019

हर पंचायत समिति पर बनेगे 50 सड़क सुरक्षा अग्रदूत - खाचरियावास

परिवहन विभाग प्रदेश की हर पंचायत समिति में 50-50 सड़क सुरक्षा अग्रदूत तैयार करेगा जो सड़क सुरक्षा के क्षेत्र में स्वयंसेवक की तरह काम करेंगे। परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने सोमवार को राज्य सड़क सुरक्षा परिषद् की 15वीं बैठक के बाद पत्रकारों को सम्बोधित करते हुए यह जानकारी दी। खाचरियावास ने कहा कि विभाग द्वारा इन करीब 15 हजार अग्रदूतों को विशेष मोनोग्राम के साथ हैलमेट प्रदान करने की योजना पर काम किया जा रहा है। इनको परिवहन विभाग और एनजीओ के माध्यम से सड़क सुरक्षा का प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा। क्षेत्र में कोई भी सड़क दुर्घटना होने या मार्ग जाम होने की स्थिति में भी ये अग्रदूत प्रशासन का सहयोग करेंगे। उन्होंने कहा कि सड़क सुरक्षा का लक्ष्य तब तक पूरा नहीं हो सकता जब तक आम आदमी इससे न जुडे़। इसके लिए परिवहन विभाग के साथ सभी हितधारक विभाग, एनजीओ और आम आदमी के सहयोग से राज्य में सड़क दुर्घटनाओं और उनमें होने वाली मौतों में कमी लाने के प्रयास किए जाएंगे। परिवहन मंत्री ने बताया कि प्रदेश में राष्ट्रीय स्तर पर प्रतिवर्ष घोषित सड़क सुरक्षा सप्ताह मनाने के साथ ही समय-समय पर और अधिक सड़क सुरक्षा गतिविधियां आयोजित की जाएंगी और हर माह इनकी समीक्षा भी की जाएगी। श्री खाचरियावास ने कहा कि एनएचएआई अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं गांवों से एनएच पर मिलने वाले सड़कों के जंक्शन्स को सुरक्षित बनाने, समय पर सड़क की मेंटीनेंस एवं आवश्कताअनुसार बेरिकेडिंग करने, पशुओं के एनएच पर आवागमन को रोकने के लिए टोल ले रही कम्पनियों को पाबन्द करें। साथ ही टोल पर वाहनों के जाम की समस्या को हल करने के प्रयास करें। उन्होंने मीटिंग में कई विभागों के वरिष्ठ अधिकारियों के नहीं आने को गंभीरता से लेते हुए नाराजगी प्रकट की। परिवहन राज्यमंत्री अशोक चांदना ने कहा कि सड़क सुरक्षा के बारे में अधिक से अधिक जनजागरूकता के लिए काम किया जाना चाहिए। उन्होंने इसके लिए फेसबुक, व्हाट्सअप एवं सोशल मीडिया के अधिक से अधिक उपयोग किए जाने की बात कही। उन्होंने कहा कि विशेषकर युवाओं को सड़क सुरक्षा आन्दोलन से जोड़ा जाना चाहिए। अतिरिक्त मुख्य सचिव, परिवहन राजीव स्वरूप ने एनएचएआई के अधिकारियेां को एनएच पर नियमित अंतराल पर स्पीड लिमिट के संकेतक लगाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि गंभीर सड़क दुर्घटना के बाद रोड ओनिंग एजेंसी और परिवहन विभाग के अधिकारियों को उसका त्वरित विश्लेषण करना चाहिए। मासिक आधार पर उनके कारणों की समीक्षा की जानी चाहिए।

MOLITICS SURVEY

मॉब लिंचिंग किस वजह से हो रही है ?

दाढ़ी
  5.66%
टोपी
  9.43%
राष्ट्रवाद
  84.91%

TOTAL RESPONSES : 53

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know