पश्चिम बंगाल में यहां पुजारी करते हैं प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला
Latest News
BOOKMARK

पश्चिम बंगाल में यहां पुजारी करते हैं प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला

By Dainik Jagran   08-May-2019

पश्चिम बंगाल में यहां पुजारी करते हैं प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला

 अयोध्या की तरह ही पश्चिम बंगाल में विष्णुपुर अति महत्वपूर्ण धाम की सूची में शुमार है। बांकुड़ा जिले में स्थित विष्णुपुर अपने प्राचीन व मध्यकालीन टेराकोटाकृत मंदिरों और वास्तुकलाओं के लिए विश्व भर में लोकप्रिय है।
यहां के ज्यादातर मंदिर वैष्णव पंथ से संबंधित हैं, जबकि आसपास के इलाके में शैव, बौद्ध और जैन संप्रदाय के मंदिर भी हैं। यहां के स्थानीय निवासी इन मंदिरों से भावनात्मक रूप से इस कदर जुड़े हैं कि इलाके की सियासत में भी इन मंदिरों और यहां के पुजारियों का जबर्दस्त दखल है। हिंदू बाहुल क्षेत्र होने की वजह से यहां किसी भी दल के लिए यह जरूरी होता है कि वो पुजारियों को प्रसन्न रखें।
इन सब के इतर, इस सीट की सबसे खास बात यह है कि साल 2014 के आम चुनाव में तृणमूल काग्रेस की टिकट पर जीत कर संसद पहुंचे सौमित्र खां ने भाजपा का दामन थाम लिया। जिसके बाद पार्टी ने उन्हें यहां से उम्मीदवार बनाया है और उनका सामना तृणमूल के स्थानीय लोकप्रिय नेता श्यामल सांतरा से है। वहीं कांग्रेस ने नारायण चंद्र खां और माकपा ने सुनील खां को मैदान में उतारा है।
हालांकि इस सीट की अहमियत इसी से समझी जा सकती है कि खुद राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी यहां खासी सक्रिय हैं और इस सीट पर जीत दर्ज करने के लिए पूरा जोर लगाए हुए हैं। दूसरी ओर, सौमित्र के खिलाफ लगे आरोपों के बाद कोर्ट ने भले ही क्षेत्र में उनके प्रवेश को वर्जित कर रखा हो, लेकिन उनकी गैर हाजिरी में उनकी पत्नी सुजाता प्रचार की कमान अपने कंधों पर लिए लगातार सभाएं और रोड शो कर रही हैं। ऐसे में यहां तृणमूल और भाजपा के बीच कांटे की टक्कर की उम्मीद है।

MOLITICS SURVEY

क्या कांग्रेस का महागठबंधन से अलग रह के चुनाव लड़ने की वजह से बीजेपी को पूर्ण बहुमत मिला है?

TOTAL RESPONSES : 12

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know