नेकां ने फिर दोहराई नजरबंद नेताओं की रिहाई की मांग, कहा-नजरबंदी लोकतांत्रिक मूल्यों के खिलाफ है
Latest News
bookmarkBOOKMARK

नेकां ने फिर दोहराई नजरबंद नेताओं की रिहाई की मांग, कहा-नजरबंदी लोकतांत्रिक मूल्यों के खिलाफ है

By Dainik Jagran calender  12-Nov-2019

नेकां ने फिर दोहराई नजरबंद नेताओं की रिहाई की मांग, कहा-नजरबंदी लोकतांत्रिक मूल्यों के खिलाफ है

  • नेशनल कांफ्रेंस ने जम्मू-कश्मीर में राजनीतिक गतिविधियां शुरू करने के लिए नेताओं की रिहाई की मांग दोहराई.
     
  • सरकार को नेशनल कांफ्रेंस सहित अन्य राजनीतिक दलों के नेताओं को रिहा करना चाहिए.
     
  • जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटने के बाद तीन पूर्व मुख्यमंत्री नजरबंद हैं जिसमें फारूक अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला और पीडीपी की महबूबा मुफ्ती शामिल हैं.
     
  • केंद्र शासित जम्मू-कश्मीर में राजनीतिक गतिविधियों को पूरी तरह बहाल करने और हालात सामान्य बनाने के लिए मुख्यधाारा से संबधित सभी राजनीतिक बंदियों की रिहाई जरूरी है.
     
  • जम्मू-कश्मीर को अनुच्छेद 370 के तहत प्राप्त अधिकार और एकीकृत जम्मू-कश्मीर को दो केंद्र शासित राज्यों में विभाजित किए तीन माह से अधिक समय हो गया है.

    यह भी पढ़ें: भाजपा प्रवक्ता ब्रिगेडियर गुप्ता ने कहा- इससे पहले कि लोगों का संयम जवाब दे, घोषणाओं को पूरा करें

MOLITICS SURVEY

क्या सरकार को हैदराबाद गैंगरेप केस एनकाउंटर की जांच करानी चाहिए?

TOTAL RESPONSES : 7

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know