निजीकरण से मोदी सरकार को मदद मिलेगी, लेकिन यह राजनीतिक जोखिम से भरा है
Latest News
bookmarkBOOKMARK

निजीकरण से मोदी सरकार को मदद मिलेगी, लेकिन यह राजनीतिक जोखिम से भरा है

By Theprint calender  13-Oct-2019

निजीकरण से मोदी सरकार को मदद मिलेगी, लेकिन यह राजनीतिक जोखिम से भरा है

  • आज की जरूरत है- निजीकरण. रेलवे स्टेशन और रेलगाड़ियों से लेकर हवाईअड्डों, कंटेनर कॉर्पोरेशन, शिपिंग कॉर्पोरेशन, हाइवे परियोजनाओं, एअर इंडिया, भारत पेट्रोलियम तक सबका निजीकरण होने वाला है .
  • हम विनिवेश की नहीं बल्कि असली निजीकरण की बात कर रहे हैं. जिसमें नियंत्रण करने वाले हाथ बदल जाएंगे. ऐसा लगता है कि नरेंद्र मोदी अंततः अपने इस विचार पर अमल करने जा रहे हैं कि बिजनेस सरकार का बिजनेस नहीं है.
  • माना जा रहा है कि 2016 में की गई नोटबंदी और अटपटे ढंग से लागू की गई जीएसटी के कारण भी आर्थिक सुस्ती आई है.
  • सरकार खर्चे बढ़ाने के एक के बाद एक कई कार्यक्रमों और टैक्स में छूट की घोषणा करती रही है. सो, बिल तो बड़ा होता गया और टैक्स से आमदनी घटती गई.
यह भी पढ़ें: महाराष्ट्र के प्रचार से गडकरी ग़ायब, क्या किनारे लगाये जायेंगे?
  • भारतीय रिजर्व बैंक पर दबाव डालकर एकमुश्त भुगतान करवाया गया. लेकिन, यह काफी नहीं होगा. इसलिए निजीकरण ही आसान उपाय है.

MOLITICS SURVEY

महाराष्ट्र में अगर शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस के गठबंधन की सरकार बनती है तो क्या उसका हाल भी कर्नाटक जैसा होगा ?

TOTAL RESPONSES : 30

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know