अमित शाह जी, हिंदी बोलने और थोपने में फ़र्क़ है