सरकार कमेरे वर्ग को बाईक से उतारकर पैदल चलने को मजबूर कर रही है – दुष्यंत चौटाला
Latest News
bookmarkBOOKMARK

सरकार कमेरे वर्ग को बाईक से उतारकर पैदल चलने को मजबूर कर रही है – दुष्यंत चौटाला

By Yuvaharyana calender  07-Sep-2019

सरकार कमेरे वर्ग को बाईक से उतारकर पैदल चलने को मजबूर कर रही है – दुष्यंत चौटाला

  • जननायक जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता दुष्यंत चौटाला ने कहा है कि आज प्रदेश में भाजपा सरकार के घोटाले दिन-प्रतिदिन उजागर हो रहे है।
  • नई दिल्ली में आयोजित एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान उन्होंने अखबार में छपी खबर का हवाला देते हुए कहा कि भाजपा सरकार के एक मंत्री के दामाद पर कई हजार करोड़ रूपए के घोटाले में गैर जमानती वारंट जारी हुआ है।
  • दुष्यंत चौटाला ने भाजपा सरकार से पूछते हुए कहा कि इसी तरह ओवरलोडिंग, एससी-एसटी छात्रों की छात्रवृत्ति, रोडवेज में किलोमीटर स्कीम जैसे कई बड़े-बड़े घोटालों पर अब तक मुख्यमंत्री मनोहर लाल जनता को कारण क्यों नहीं बता रहे है।
  • इस दौरान वरिष्ठ जेजेपी नेता ने नए मोटर व्हीकल कानून पर कड़ा एतराज जताते हुए हैरानी जताई कि क्या किसानों के नान ट्रांसपोर्ट व्हीकल ट्रैक्टर का 59 हजार, बाईक का 32 हजार का चालान करना जायज़ है। उन्होंने कहा कि इस तरह से भारी-भरकम जुर्माने लगाना सरकार की मंशा को दर्शाता है कि वे अर्थव्यवस्था में आई भारी मंदी की भरपाई आम जनता की जेब पर डाका डालकर पूरा करना चाहती है।
  • उन्होंने कहा कि सरकार ने नए मोटर व्हीकल कानून के बारे में जनता को जागरूक किए बिना ही उन पर नया कानून थोपने का काम किया है जिसमें अधिकतम चालानों के जुर्माने की रकम बहुत ज्यादा है। उन्होंने कहा कि इस तरह से सरकार द्वारा जनता पर दवाब बनाकर उनकी जेब पर अतिरिक्त बोझ डाला है जिसके परिणाम भी अब सामने आने लग गए है।
  • दुष्यंत चौटाला ने कहा कि सोशल मीडिया पर देखने को मिल रहा है कि एक बाईक का मालिक भारी-भरकम जुर्माने से परेशान आकर अपनी बाईक को आग लगा रहा है। उन्होंने चिंता जाहिर करते हुए कहा कि अगर ऐसे ही हालात बने रहे तो कमेरे वर्ग के लोगों को सरकार बाईक से उतार कर साइकिल या पैदल चलने पर मजबूर कर देगी।
कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अशोक तंवर ने फरीदाबाद में निकाली पद यात्रा

MOLITICS SURVEY

'ओला-ऊबर के कारण ऑटो सेक्टर में मंदी' - क्या निर्मला सीतारमण के इस बयान से आप सहमत है ?

हाँ
  20.75%
नहीं
  69.81%
कुछ कह नहीं सकते
  9.43%

TOTAL RESPONSES : 53

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know