हरियाणा विधानसभा चुनाव में और मजबूती से उतरेगी 'पन्ना प्रमुख' की फौज, हलका स्तर पर समीक्षा
Latest News
bookmarkBOOKMARK

हरियाणा विधानसभा चुनाव में और मजबूती से उतरेगी 'पन्ना प्रमुख' की फौज, हलका स्तर पर समीक्षा

By Amarujala calender  31-Aug-2019

हरियाणा विधानसभा चुनाव में और मजबूती से उतरेगी 'पन्ना प्रमुख' की फौज, हलका स्तर पर समीक्षा

हरियाणा में लोकसभा चुनाव में परचम लहराने वाली भाजपा अक्टूबर में प्रस्तावित विधानसभा चुनाव भी अपने पन्ना प्रमुखों की फौज के बूते जीतने की रणनीति तैयार कर रही है। लोकसभा में भाजपा के पन्ना प्रमुखों ने बेहतरहीन काम करते हुए दस की दस लोकसभा सीटें पीएम मोदी की झोली में डाली थी। लिहाजा, विधानसभा चुनाव में भी भाजपा अपनी जीत का मुख्य आधार इन्हीं पन्ना प्रमुखों को ही मानकर चल रही है। इसलिए अगले महीने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा हरियाणा में किए जाने वाला चुनावी शखनांद इन्ही पन्ना प्रमुखों की संवाद रैली से ही किया जाएगा। नरेंद्र मोदी 8 सितंबर को रोहतक में प्रदेश में भाजपा के इन पन्ना प्रमुखों से सीधा संवाद स्थापित कर उनका हौसला बढ़ाएंगे। इस रैली में पहुंचने पन्ना प्रमुखों का पंजीकरण शक्ति केंद्र प्रमुखों द्वारा किया जा रहा है।
भाजपा को 75 पार नहीं, सत्ता से बाहर करेगा कमेरा वर्ग : दुष्यंत
एक ही पन्ना ले मैदान में उतरेंगे प्रमुख
हरियाणा में भाजपा ने यह कंसेप्ट इसी साल लोकसभा चुनाव में अपनाया था। हर बूथ पर करीब 15 पन्ना प्रमुख बनाए गए थे, जिन्हे एक पन्ने की करीब 60 मतदाताओं से संपर्क साधकर उन्हे मतदान वाले दिन मतदान केंद्र तक पहुंचकर वोट करने के लिए प्रेरित करना था। मतदान से पहले लगातार उसे मतदाताओं के संपर्कमें रहना था। चूंकि पहली बार भाजपा ने यह रणनीति अपनाई थी, इसलिए कई बूथों पर मामला अव्यवस्थित सा हो गया। एक पन्ना प्रमुख को दो से तीन पन्ना पकड़ा दिए गए, जिससे उनका वर्कलोड बढ़ गया।

मगर उसके बावजूद इन पन्ना प्रमुखों ने अपनी पार्टी के लिए जी-तोड़ मेहनत कर जीत दिलवाई थी। इस बार ऐसी अव्यवस्था  नहीं होगी। पन्ना प्रमुखों की पूर्व कार्यप्रणाली की समीक्षा करते हुए यह स्पष्ट कर दिया गया है कि इस बार पन्ना प्रमुखों के हाथ सिर्फ एक-एक ही पन्ना होगा और उसी पन्ने के मतदाताओं पर पन्ना प्रमुख फोकस करेगा। अभी तक प्रदेश में करीब 20900 बूथों है, जिन पर भाजपा ने औसतन 15 पन्ना प्रमुख नियुक्त कर दिए हैं। प्रदेश में भाजपा के पन्ना प्रमुखों की फौज 3 लाख से अधिक है।
भाजपा के विधायकों, मंत्रियों, पदाधिकारियों को निर्देश दिया गया है कि वे अपने-अपने हलके में जल्द इन पन्ना प्रमुखों के पंजीकरण का काम पूरा कर 8 सितंबर को पीएम की रैली में उन्हे लेकर पहुंचे। इतना ही नहीं मंत्री व विधायकों की ड्यूटियां लगाई गई है कि वे अपने हलकों व जिलों के पन्ना प्रमुखों की बैठक भी लें। भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष सुभाष बराला के अनुसार पन्ना प्रमुख पार्टी के मजबूत कार्यकर्ताओं की फौज है। रोहतक में पीएम उनसे सीधा संवाद कर उन्हे चुनावी रण में उतरने के गुर भी बताएंगे।

MOLITICS SURVEY

महाराष्ट्र में अगर शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस के गठबंधन की सरकार बनती है तो क्या उसका हाल भी कर्नाटक जैसा होगा ?

TOTAL RESPONSES : 34

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know