सीएम मनोहर की जन आशीर्वाद यात्रा से बना चुनावी माहौल, बदलने लगे सियासी समीकरण
Latest News
bookmarkBOOKMARK

सीएम मनोहर की जन आशीर्वाद यात्रा से बना चुनावी माहौल, बदलने लगे सियासी समीकरण

By Jagran calender  29-Aug-2019

सीएम मनोहर की जन आशीर्वाद यात्रा से बना चुनावी माहौल, बदलने लगे सियासी समीकरण

विधानसभा चुनावों से पहले जन आशीर्वाद यात्रा पर निकले मुख्यमंत्री मनोहर लाल की रथ यात्रा से प्रदेश में सियासी समीकरण बदलने लगे हैं। प्रदेश के कुल 90 विधानसभा क्षेत्रों में से 49 हलकों में दस्तक दे चुके मुख्यमंत्री जिस तरह ताबड़तोड़ घोषणाएं कर रहे, उसका असर विधानसभा चुनावों में दिखेगा। रथयात्रा के दौरान रोड-शो और जनसभाओं में लोगों से भाजपा के मिशन-75 को पूरा कराने की मनोहर अपीलों से प्रदेश के सियासी समीकरण बदलते दिख रहे हैं।
बुधवार को सुबह केंद्रीय राज्य मंत्री राव इंद्रजीत के गढ़ गुरुग्राम में शक्ति प्रदर्शन के बाद मुख्यमंत्री मनोहर लाल का रथ केंद्रीय राज्य मंत्री कृष्ण पाल गुर्जर के संसदीय क्षेत्र और उद्योग मंत्री विपुल गोयल के विधानसभा क्षेत्र में घूमा। फरीदाबाद के बड़खल, फरीदाबाद एनआइटी, फरीदाबाद शहर, तिगांव, बल्लभगढ़ और पृथला के साथ ही पलवल में लोगों से सीधे संवाद में सीएम कई घोषणाएं कर अपने पक्ष में माहौल बनाने में सफल रहे।
370 खत्म कर मोदी ने देश में किया एक संविधान लागू
इस दौरान मुख्यमंत्री केनजदीकियों में शुमार केंद्रीय राज्य मंत्री कृष्ण पाल गुर्जर और मनोहर कैबिनेट में उद्योग मंत्री विपुल गोयल ने रथ यात्रा के स्वागत के जरिये शक्ति प्रदर्शन में कोई कसर नहीं छोड़ी। टिकट की दौड़ में शामिल भाजपा के स्थानीय नेताओं में भी समर्थकों की भीड़ जुटा सीएम के सामने अपने नंबर बनाने की होड़ लगी रही। पिछले विधानसभा चुनावों में फरीदाबाद और पलवल जिलों की विधानसभा सीटों पर कांग्रेस और भाजपा में कांटे की टक्कर रही थी।
 
मुख्यमंत्री ने फरीदाबाद और गुरुग्राम के बीच मेट्रो चलाने की घोषणा कर बड़े तबके को साधने की कोशिश की है। बड़ी संख्या में लोग प्रतिदिन दोनों शहरों के बीच आवागमन करते हैं। फरीदाबाद और गुरुग्राम के बीच इंट्रा सिटी बस सर्विस पहले ही शुरू की जा चुकी। फरीदाबाद के कांग्रेस नेता विकास चौधरी के हत्यारोपित गैंगस्टर की गिरफ्तारी का हवाला देते हुए सीएम ने साफ कर दिया कि कानून व्यवस्था को लेकर सरकार गंभीर है।
उन्होंने कहा कि हमने शासक बनकर नहीं, बल्कि सेवादार, चौकीदार और ट्रस्टी बनकर राज्य के लोगों की सेवा की है। इस दौरान सीएम लोगों को आठ सितंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली में आने का न्योता भी देना नहीं भूले। गुरुग्राम में मुख्यमंत्री ने करीब 53 करोड़ रुपये की विकास परियोजनाओं का उद्घाटन व शिलान्यास कर खूब वाहवाही लूटी।

MOLITICS SURVEY

क्या संतोष गंगवार के बयान का असर महाराष्ट्र चुनाव में होगा ?

हाँ
  50%
नहीं
  50%
पता नहीं
  0%

TOTAL RESPONSES : 2

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know