लालू के छोटे बेटे तेजस्वी यादव अब महागठबंधन के नेता नहीं,कांग्रेस ने उठाया नेतृत्व पर सवाल
Latest News
bookmarkBOOKMARK

लालू के छोटे बेटे तेजस्वी यादव अब महागठबंधन के नेता नहीं,कांग्रेस ने उठाया नेतृत्व पर सवाल

By Dainik Jagran calender  28-Aug-2019

लालू के छोटे बेटे तेजस्वी यादव अब महागठबंधन के नेता नहीं,कांग्रेस ने उठाया नेतृत्व पर सवाल

पटना, जेएनएन। लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Elections) में मिली करारी हार के बाद मंगलवार को एक बार फिर महागठबंधन (Grand Alliance) के घट दलों के नेताओं की राबड़ी देवी (Rabri devi) के आवास पर हुई। इस बैठक में लोकसभा चुनाव की हार पर चर्चा के साथ ही आगे की रणनीति पर विचार-विमर्श किया गया। इस बैठक में घटक दलों के सभी नेताओं ने एक स्वर में आगे संघर्ष करने की बात भी कही। 
इस बैठक की सबसे बड़ी बात ये रही कि घटक दल के नेताओं ने राजद नेता तेजस्वी यादव के नेतृत्व पर सवाल उठाया और उनके नेतृत्व को फिलहाल विधानसभा चुनाव के लिए खारिज कर दिया। इससे अब ये ही कहा जा सकता है तेजस्वी यादव अब महागठबंधन के नेता नहीं रहे।
बता दें कि राज्य में होने वाले पांच विधानसभा और एक लोकसभा सीटों के उपचुनाव के मद्देनजर राबड़ी आवास पर मंगलवार को महागठबंधन की अहम बैठक थी। बैठक के बाद पूर्व सीएम जीतनराम मांझी ने महागठबंधन के सभी बड़े नेताओं की उपस्थिति में ऐलान किया कि पहले एनडीए राज्य में अपना नेता घोषित करे। जरूरत होगी तो महागठबंधन भी अपना नेता घोषित करेगा।
जीतनराम मांझी से मिले पप्पू, बिहार की सियासत में थर्ड फ्रंट की सुगबुगाहट तेज
बैठक में यह भी बताया गया कि राजद (RJD) कांग्रेस (CONGRESS) रालोसपा (RLSP) हम (HAM) और विकासशील इन्सान पार्टी(VIP) का महागठबंधन सिर्फ लोकसभा चुनाव के लिए नहीं था, बल्कि जन सरोकारों के लिए था। बैठक में जो बात खास हुई वह यह कि गठबंधन में शामिल दलों ने तेजस्वी यादव (Tejaswi Yadav) को महागठबंधन का नेता मानने से इनकार कर दिया है।
कांग्रेस ने उठाया नेतृत्व पर सवाल
कांग्रेस के प्रभारी सचिव वीरेंद्र सिंह राठौड़ ने न सिर्फ तेजस्वी को महागठबंधन का नेता मानने से इंकार कर दिया, बल्कि यह भी साफ़ कर दिया कि बिहार विधानसभा चुनाव में जिस नेता के नेतृत्व में महागठबंधन चुनाव मैदान में जाएगा उस चेहरे का चुनाव राहुल गांधी या फिर सोनिया गांधी ही करेंगी।

MOLITICS SURVEY

'ओला-ऊबर के कारण ऑटो सेक्टर में मंदी' - क्या निर्मला सीतारमण के इस बयान से आप सहमत है ?

हाँ
  20.75%
नहीं
  69.81%
कुछ कह नहीं सकते
  9.43%

TOTAL RESPONSES : 53

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know