भारत रत्न और पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने कहा - पांच ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनना संभव