सरदार पटेल ने 630 रियासतों का विलय किया, J&K छूट गया था; उसे मोदी ने पूरा किया: शाह
Latest News
bookmarkBOOKMARK

सरदार पटेल ने 630 रियासतों का विलय किया, J&K छूट गया था; उसे मोदी ने पूरा किया: शाह

By ZeeNews calender  24-Aug-2019

सरदार पटेल ने 630 रियासतों का विलय किया, J&K छूट गया था; उसे मोदी ने पूरा किया: शाह

गृह मंत्री अमित शाह ने शनिवार को हैदराबाद में आईपीएस अधिकारियों की पासिंग आउट परेड में हिस्सा लिया. यह कार्यक्रम हैदराबाद के नेशनल पुलिस एकेडमी (एनपीए) में आयोजित किया गया. अपने संबोधन के दौरान शाह ने कहा कि सरदार पटेल ने 630 रियासतों का विलय किया, जम्मू-कश्मीर उसमें छूट गया था; उसे पीएम नरेंद्र मोदी ने पूरा किया है. 
शाह ने अपने भाषण की शुरुआत में कहा, "सरदार पटेल जी को आज मैं विनम्र श्रद्धांजलि देता हूं. उन्होंने जो 630 रियासतों को जोड़ने काम किया था उसमें एक अंतिम बिंदु छूट गया था जम्मू कश्मीर का संपूर्ण विलीनीकरण. अनुच्छेद 370 के रहते जम्मू कश्मीर का संपूर्ण विलीनीकरण भारतीय संघ के साथ नहीं हुआ था. प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में आज अनुच्छेद 370 को भारतीय संसद ने समाप्त करके जम्मू कश्मीर को भारत का अभिन्न हिस्सा बनाया है."

आखिर भारत में आर्थिक मंदी आई क्यों? जानिए अंदरूनी और बाहरी वजहें

शाह ने आईपीएस अधिकारियों की पासिंग आउट परेड को संबोधित करते हुए कहा, "हमारे संविधान में प्रशासन को दो हिस्सों में बांटा गया है. एक में चुने हुए प्रतिनिधि संसद और राज्यों के विधानमंडलों के अंदर नीतियों, कानूनों का निर्माण करते हैं. दूसरे में भारतीय पुलिस सेवा के अधिकारी उन्हें नीचे तक पहुंचाने का काम करते हैं. आज जो भी अधिकारी यहां से जिस भी राज्य में जाएगा, वह पूरी ईमानदारी से कार्य करेगा. आगे आने वाले दिनों में कठोर परिश्रम करना होगा और कई परीक्षाएं देनी होंगी. मन को दृढ़ करना होगा और मन को सही रास्ते पर चलाना होगा."

शाह ने कहा, "मैं सभी प्रोबेशनरी अधिकारियों को भारतीय पुलिस सेवा और नेपाल और रॉयल भूटान पुलिस सेवा के अंदर आपका प्रवेश होने जा रहा है इसके लिए आपको बहुत-बहुत शुभकामनाएं देता हूं. समृद्ध, शिक्षित और सुरक्षित भारत हमारा लक्ष्य होना चाहिए. एक व्यक्ति का सुख हमारा लक्ष्य नहीं होना चाहिए. आपका काम आज से शुरू हुआ है और ये महत्वपूर्ण पड़ाव है."

गृह मंत्री ने कहा, "एक सामान्य परिवार से अफसर बनना लक्ष्य नहीं हो सकता. हमारा लक्ष्य देश को दुनिया में उसके गौरवशाली स्थान पर पहुंचाना हो सकता है. देश को गौरवशाली स्थान पर पहुंचाने के लिए आपका अमूल्य योगदान बहुत महत्वपूर्ण है."

MOLITICS SURVEY

'ओला-ऊबर के कारण ऑटो सेक्टर में मंदी' - क्या निर्मला सीतारमण के इस बयान से आप सहमत है ?

TOTAL RESPONSES : 53

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know