अखिलेश यादव व राजभर की भेंट के बाद गठबंधन की संभावना बढ़ी, SP की प्रदेश कार्यकारिणी भंग
Latest News
bookmarkBOOKMARK

अखिलेश यादव व राजभर की भेंट के बाद गठबंधन की संभावना बढ़ी, SP की प्रदेश कार्यकारिणी भंग

By Jagran calender  24-Aug-2019

अखिलेश यादव व राजभर की भेंट के बाद गठबंधन की संभावना बढ़ी, SP की प्रदेश कार्यकारिणी भंग

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने आज उत्तर प्रदेश को लेकर बड़ा फैसला किया है। उन्होंने पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष को छोड़कर प्रदेश की कार्यकारिणी को भंग कर दिया है। इसके साथ ही समाजवादी पार्टी कार्यालय में अखिलेश यादव और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर की भेंट से प्रदेश की राजनैतिक सरगर्मी को तेज कर दिया है।
भाजपा तथा प्रदेश सरकार के खिलाफ लगातार बयान देने वाले ओमप्रकाश राजभर को लोकसभा चुनाव के बाद योगी आदित्यनाथ मंत्रिमंडल से बर्खास्त कर दिया गया था। उसके बाद से आज पहली बार ओमप्रकाश राजभर ने बड़ा कदम उठाया है।
उत्तर प्रदेश में 13 विधानसभा सीट पर होने वाले विधानसभा उपचुनाव से पहले ओमप्रकाश राजभर और अखिलेश यादव के बीच लंबी वार्ता के बाद कयास लगाया जा रहा है कि दोनों पार्टी उप चुनाव में गठबंधन कर सकती हैं। इनके बीच भेंट के दौरान काफी देर तक समाजवादी पार्टी कार्यालय में बड़ी हलचल रही।
माना जा रहा है कि सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी अब समाजवादी पार्टी के साथ आ सकती है। ओमप्रकाश राजभर पहले भाजपा सरकार में कैबिनेट मंत्री थे। पार्टी से मतभेदों के चलते उनको हटा दिया गया था। अब विधानसभा उपचुनाव में सपा के साथ एसबीएसपी मिलकर चुनाव लड़ सकती है।
 
दोनों को थी नए ठौर की तलाश
लोकसभा चुनाव में बहुजन समाज पार्टी के साथ गठबंधन कर मैदान में उतरने वाली समाजवादी पार्टी को बड़ा लाभ नहीं हो सका। बहुजन समाज पार्टी ने तो दस सीट जीत ली जबकि समाजवादी पार्टी को पांच सीट मिली थी। समाजवादी पार्टी से उतरे मुलायम सिंह यादव परिवार के तीन सदस्य पार्टी अध्यक्ष की पत्नी डिंपल यादव के साथ अक्षय यादव तथा धर्मेंद्र यादव भी चुनाव हार गए। बसपा को इस बार बड़ा लाभ हुआ।
2014 में लोकसभा में इनका एक भी सदस्य नहीं था जबकि 2019 में दस ने जीत दर्ज की। सपा इस बार अपने गढ़ फिरोजाबाद, कन्नौज और बदांयू में भी चुनाव हार गई। चुनाव परिणाम के बाद बसपा प्रमुख मायावती ने हार का ठीकरा सपा पर ही फोड़ दिया और आने वाले उपचुनाव में अकेले लड़ने की बात कही। सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी ने 2017 में भारतीय जनता पार्टी के साथ गठबंधन कर विधानसभा चुनाव लड़ा था।इसके बाद ओमप्रकाश राजभर को प्रदेश सरकार में कैबिनेट मंत्री भी बनाया गया। लोकसभा चुनाव में उतरने की तैयारी में लगी एसबीएसपी को भाजपा ने एक भी सीट नहीं थी। इसी के बाद से इनके बीच तनाव बढ़ा और फिर लोकसभा चुनाव के बाद ओमप्रकाश राजभर को योगी आदित्यनाथ सरकार से बर्खास्त कर दिया गया। अब समाजवादी पार्टी के साथ सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के बीच गठबंधन की संभावना तेज है। 
 
भाजपा तथा प्रदेश सरकार के खिलाफ लगातार बयान देने वाले ओमप्रकाश राजभर को लोकसभा चुनाव के बाद योगी आदित्यनाथ मंत्रिमंडल से बर्खास्त कर दिया गया था। उसके बाद से पहली बार ओमप्रकाश राजभर ने बड़ा कदम उठाया है। साथ ही यह भी कहा जा रहा है कि अनिल राजभर को प्रमोट कर योगी आदित्यनाथ मंत्रिमंडल में कैबिनेट मंत्री बनाए जाने से भी ओमप्रकाश राजभर बेचैन हैं। यही वजह है कि उन्होंने समाजवादी पार्टी अध्यक्ष से आगे की रणनीति पर चर्चा की है, ताकि अपने राजभर वोट में सेंध लगने से रोका जा सके।
उपचुनाव में दो सीटों पर लड़ने की तैयारी में हैं राजभर
लोकसभा चुनाव के दौरान बीजेपी से गठबंधन तोड़ अकेले मैदान में उतरने वाले ओमप्रकाश राजभर सूबे की 13 सीटों पर होने वाले उपचुनाव में दो सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारने की तैयारी कर रहे हैं। लिहाजा वो गठबंधन की तलाश में हैं।
राजभर यह कह चुके हैं कि वो अम्बेडकरनगर की जलालपुर और बहराइच की बलहा सीट से प्रत्याशी मैदान में उतारेंगे। योगी आदित्यनाथ कैबिनेट से निकाले जाने के बाद राजभर बदला लेने के मूड में हैं। ऐसे में वो सपा के साथ गठबंधन कर उपचुनाव लड़ सकते हैं। 2017 के विधानसभा चुनाव में राजभर ने बीजेपी से गठबंधन कर चुनाव लड़ा था। पहली बार पार्टी के चार विधायक जीते थे।
यूपी अध्यक्ष को छोड़ सपा की प्रदेश की सारी इकाइयां कीं भंग
समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव जी ने तत्काल प्रभाव से प्रदेश अध्यक्ष श्री नरेश उत्तम पटेल को छोड़कर, समाजवादी पार्टी की राज्य एवं ज़िला कार्यकारिणी सभी प्रकोष्ठ सहित भंग कर दी है। लोकसभा चुनाव के परिणाम आने से तीन महीने बाद और विधानसभा उप चुनाव की आहट के बीच समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने शुक्रवार को बड़ा फैसला किया है। उन्होंने उत्तर प्रदेश समाजवादी पार्टी की सभी कार्यकारिणी को भंग कर दिया है।

MOLITICS SURVEY

ट्रैफिक रूल्स में हुए नए बदलाव जनता के लिए !

फायदेमंद
  33.33%
नुकसानदायक
  66.67%

TOTAL RESPONSES : 24

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know