आरक्षण पर उबली बिहार की सियासत, तेजस्वी ने ट्वीट कर BJP RSS पर लगाया आरोप
Latest News
bookmarkBOOKMARK

आरक्षण पर उबली बिहार की सियासत, तेजस्वी ने ट्वीट कर BJP RSS पर लगाया आरोप

By Jagran calender  20-Aug-2019

आरक्षण पर उबली बिहार की सियासत, तेजस्वी ने ट्वीट कर BJP RSS पर लगाया आरोप

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के आरक्षण वाले बयान के बाद से बिहार की राजनीति में खलबली मच गई है। काफी दिनों बाद नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने राजनीतिक विषय पर ट्वीट किया है उन्होंने भागवत के बयान पर संदेह जाहिर किया है कि आरक्षण को लेकर RSS/BJP की मंशा ठीक नहीं है। बहस इस बात पर करिए कि इतने वर्षों बाद भी केंद्रीय नौकरियों में आरक्षित वर्गों के 80% पद ख़ाली क्यों है? उनका प्रतिनिधित्व सांकेतिक भी नहीं है। केंद्र में एक भी सचिव OBC/EBC क्यों नहीं है? कोई कुलपति SC/ST/OBC क्यों नहीं है? करिए बहस??
मोहन भागवत के बयान पर मचा है बड़ा बवाल 
मोहन भागवत जी के बयान के बाद आपको यह साफ होना चाहिए कि क्यों हम आपको “संविधान बचाओ” और “बेरोज़गारी हटाओ,आरक्षण बढ़ाओ” के नारों के साथ आगाह कर रहे थे।'सौहार्दपूर्ण माहौल' की नौटंकी में ये आपका आरक्षण छीन लेने की योजना में काफी आगे बढ़ चुके है।जागो,जगाओ और अधिकार बचाने की मशाल जलाओ 
इससे पहले महागठबंधन के नेताओं ने मोहन भागवत के आरक्षण वाले बयान का विरोध किया। महागठबंधन राजद और हिंदुस्तानी आवाम पार्टी ने आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के आरक्षण वाले बयान की जमकर आलोचना की। उन्होंने कहा कि अगर आरक्षण से छेड़छाड़ किया गया तो देश में क्रांति होगी. लोग सड़क पर निकल कर प्रदर्शन करना शुरू कर देंगे।
राजद ने कहा-आरक्षण को समाप्त कर रहे भागवत
राजद नेता और प्रवक्ता भाई वीरेन्द्र ने कहा कि आरएसएस और बीजेपी एक ही थाली के चट्टे-बट्टे हैं। उन्होंने कहा कि भीम राव अंबेडकर ने गरीबों के हित के लिए आरक्षण लाया था. ताकि इससे पिछड़ा वर्ग मुख्य धारा में बना रहे. लेकिन, मोहन भागवत के बयान से साफ झलकता है कि वह आरक्षण को खत्म करने में लगे हैं।
अनंत सिंह पर कसा शिकंजा, सरकार ने गृहमंत्री से की लुक आउट नोटिस जारी करने की अनुशंसा
भाई वीरेन्द्र ने बताया कि आरक्षण के साथ थोड़ी भी छेड़छाड़ की गई तो जनआंदोलन होगा और लोग सड़क पर उतर कर क्रांति करेंगे। भाई वीरेन्द्र ने मोहन भागवत पर आरोप लगाते हुए यह भी कहा कि वह पहले भी आरक्षण को समाप्त करने की वकालत कर चुके हैं। आरजेडी प्रवक्ता ने मोहन भागवत पर तंज कसते हुए कहा कि वह जान बूझकर आरक्षण पर बहस करना चाहते हैं. ताकि आरक्षण समाप्त हो जाए। जिस प्रकार आर्टिकल 370 और 35 ए को समाप्त कर दिया गया है। ठीक उसी प्रकार से आरक्षण को भी खत्म करने में लगे हैं। अगर संविधान के साथ कुछ भी छेड़छाड़ हुआ तो उसे किसी भी हालत में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

MOLITICS SURVEY

क्या संतोष गंगवार के बयान का असर महाराष्ट्र चुनाव में होगा ?

TOTAL RESPONSES : 2

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know