हरियाणा में पहली बार अब तक 17 विधायकों के इस्तीफे स्वीकार, इनेलो को बड़ा नुकसान
Latest News
bookmarkBOOKMARK

हरियाणा में पहली बार अब तक 17 विधायकों के इस्तीफे स्वीकार, इनेलो को बड़ा नुकसान

By Amarujala calender  20-Aug-2019

हरियाणा में पहली बार अब तक 17 विधायकों के इस्तीफे स्वीकार, इनेलो को बड़ा नुकसान

हरियाणा में ऐसा पहली बार हुआ है जब 17 विधायकों ने अपनी विधानसभा सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है। आगामी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर जिस तरह से प्रदेश में इस वक्त दल-बदल का सियासी खेल चल रहा है, उसी के चलते अधिकांश विधायकों ने अपने पद से इस्तीफे देकर पार्टी छोड़ अन्य पार्टी ज्वाइन कर ली है। एक विधायक का निधन हो चुका है। दो महीने बाद हरियाणा में विधानसभा चुनाव हैं। कुल मिलाकर इस बार 18 विधायकों की खाली सीटों वाली हरियाणा विधानसभा भंग होगी।
हरियाणा में इससे पहले सन 1999-2004 के सत्र में भाजपा के छह विधायकों ने अपने इस्तीफे दिए थे। एसवाईएल के मसले पर ये इस्तीफे भाजपा विधायकों द्वारा दिए गए हैं। मगर इस बार पॉलीटिकल गेम कुछ और है। जबकि सियासत के इस खेल में सबसे ज्यादा नुकसान इनेलो को ही दिखाई दे रहा है, क्योंकि इस्तीफा देने वालों में अधिकतर इनेलो के ही विधायक हैं। उधर, हरियाणा विधानसभा स्पीकर ने भी सभी के इस्तीफे स्वीकार कर लिए हैं और ये सभी विधायक अब अपना कार्यकाल पूरा होने से पहले ही पूर्व विधायक हो चुके हैं।
इनेलो के खेमे में अब तीन विधायक
इस्तीफों के इस दौर में इनेलो को काफी झटका लगा है। 19 अपने और 1 समर्थित विधायक वाली इनेलो के खेमे में इस कदर सियासी तोड़फोड़ हुई है कि इनेलो के पास अब सिर्फ 3 ही विधायक बचे हैं। जिसमें पूर्व नेता प्रतिपक्ष अभय चौटाला, वेद नारंग व ओमप्रकाश बरवा शामिल है।
वर्तमान सरकार गरीब, पीड़ित, दिव्यांग, व्यापारी और मजदूर की हितैषी : मुख्यमंत्री
सबसे ज्यादा इनेलो के विकेट गिरे
- 20 मार्च को नलवा से इनेलो विधायक रणबीर गंगवा ने इस्तीफा दे भाजपा ज्वाइन की।
- 24 मार्च को हथीन से इनेलो विधायक केहर सिंह रावत इस्तीफा दे भाजपाई बने।
- 03 जून को नारायणगढ़ से भाजपा विधायक नायब सैनी ने कुरुक्षेत्र से सांसद बनने के बाद इस्तीफा दिया।
- 06 जून को फतेहाबाद से इनेलो विधायक बलवान सिंह दौलतपुरिया ने इस्तीफा दे भाजपा का दामन थामा।
- 25 जून को जुलाना से इनेलो विधायक परमिंद्र सिंह ढुल ने भी इस्तीफा दे भाजपा में आस्था जता दी।
- 03 जुलाई को नूहं से इनेलो विधायक जाकिर हुसैन इस्तीफा दे भाजपा के साथ हो लिए।
- 23 जुलाई को रानियां से इनेलो विधायक रामचंद्र कंबोज भी इस्तीफा देकर भाजपा की राह चल दिए।
- 01 अगस्त को रतिया से इनेलो विधायक प्रोफेसर रवींद्र बलियाला ने भी इस्तीफा देकर भाजपा को समर्थन दिया।
- 01 अगस्त को राई से कांग्रेस विधायक जयतीर्थ दहिया ने इस्तीफा तो दे दिया, मगर पार्टी नहीं छोड़ी।
- 05 अगस्त को फिरोजपुर झिरका से इनेलो विधायक ने इस्तीफा दे पहले कांग्रेस का हाथ थामा, मगर कुछ ही दिन बाद पाला बदल भाजपा में आ गए।
अगस्त को पुन्हाना से आजाद विधायक रहीस खान ने भी इस्तीफा दे भाजपा के पाले में आ गए।
- 06 अगस्त को पूंडरी से आजाद विधायक प्रोफेसर दिनेश कौशिक भी इस्तीफा दे भाजपाई बन गए।
- 06 अगस्त को सिरसा से इनेलो विधायक मक्खन लाल सिंगला भी इस्तीफा दे भाजपा के खेमे में चले गए।
- 14 अगस्त को पृथला से बसपा के विधायक टेकचंद शर्मा ने भी इस्तीफा दे भाजपा ज्वाइन की।
- 14 अगस्त को फरीदाबाद एनआईटी से इनेलो विधायक नागेंद्र भड़ाना इस्तीफा दे भाजपा के खेमे में गए।
- 14 अगस्त को समालखा से आजाद विधायक रवींद्र मच्छरौली ने भी इस्तीफा दे दिया।
- पेहवा से इनेलो विधायक जसविंद्र सिंह संधू का निधन हो गया ।

MOLITICS SURVEY

क्या करतारपुर कॉरिडोर खोलना हो सकता है ISI का एजेंडा ?

हाँ
  46.67%
नहीं
  40%
पता नहीं
  13.33%

TOTAL RESPONSES : 15

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know