पढ़िए- लालू यादव के समधी आखिर क्यों शख्स को मारने के लिए निकालने लगे जूता
Latest News
bookmarkBOOKMARK

पढ़िए- लालू यादव के समधी आखिर क्यों शख्स को मारने के लिए निकालने लगे जूता

By Jagran calender  19-Aug-2019

पढ़िए- लालू यादव के समधी आखिर क्यों शख्स को मारने के लिए निकालने लगे जूता

बेशक पिछले कुछ वर्षों के दौरान राजनीतिक चर्चा और चुनाव प्रचार के दौरान भाषा का स्तर लगातार गिरता जा रहा है और अधिकतर बहस एक दूसरे की आलोचना के स्थान पर अपशब्दों पर केंद्रित होकर रह गई हैं। आलम यह है कि असंसदीय भाषा और भावों का प्रयोग इतना आम हो गया है कि इस सार्वजनिक जीवन में शुचिता और नैतिकता की ही कमी नहीं होती जा रही है। ताजा मामला दिल्ली से सटे हरियाणा के रेवाड़ी जिले का है, जहां पर बिहार के पूर्व सीएम लालू प्रसाद यादव के समधी और प्रदेश कांग्रेस के कद्दावर नेता कैप्टन अजय यादव एक कार्यक्रम के दौरान आपा खो बैठे। इस दौरान वहां कैप्टन अजय यादव ने वहां मौजूद एक शख्स को न केवल अपशब्द कहे, बल्कि जूता तक निकालने लगे। यह पूरा वाकया सोमवार को सुबह रेवाड़ी जिले के गांव कुंभावास का है। 
कांग्रेस नेतृत्‍व को सांसत में डाला भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने, पूर्व सीएम ने बनाई अब ऐसी रणनीति
दरअसल, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कैप्टन अजय सिंह यादव जनसंपर्क अभियान के दौरान सोमवार को रेवाड़ी जिले के गांव कुंभावास में पहुंचे थे। कार्यकर्ताओं और ग्रामीणों के बीच वह उस समय आपा खो बैठे जब गांव के ही राजपाल नामक व्यक्ति ने उन पर अपने कार्यकाल के दौरान पैसे लेकर नौकरी देने का आरोप जड़ दिया। राजपाल के आरोप से गुस्साए कैप्टन अजय यादव जूता निकालने लगे तथा मंदिर में चढ़ने की चुनौती देते हुए आरोप लगाने वाले व्यक्ति को खूब खरी-खोटी सुनाई। इस दौरान वहां मौजूद एक शख्स ने पूरे मामले का वीडियो बना लिया और अब यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।
नूंह में ASI से की थी हाथापाई
ऐसा पहली बार नहीं है जब कांग्रेस के इस कद्दावर नेता ने आपा खोया हो। इससे पहले लोकसभा चुनाव 2019 में हरियाणा की गुरुग्राम लोकसभा सीट से कांग्रेस प्रत्याशी कैप्टन अजय यादव को मतदान के दौरान भी गुस्सा आ गया था। इस दौरान उन्होंने नूंह में एएसआई से हाथापाई तक कर दी।
जानकारी के मुताबिक, 11 अप्रैल, 2019 को कैप्टन अजय सिंह यादव नूंह के मतगणना केंद्र पर पहुंचे थे तभी वहां तैनात पुलिसकर्मियों ने उनकी गाड़ी को मतगणना केंद्र से एक किमी दूर रोक दिया। इसके चलते कैप्टन अजय यादव की पुलिसकर्मियों से कहासुनी हो गई। उन्होंने कहा कि अधिकारियों के वाहन मतगणना केंद्र के अंदर तक जा रहे हैं, जबकि प्रत्याशी को एक किमी दूर से पैदल आना पड़ रहा है। इस दौरान गुरुग्राम लोकसभा के नूंह में कांग्रेस प्रत्याशी कैप्टन अजय सिंह यादव और पुलिस के बीच हाथापाई होने के बाद गुरुग्राम में सुरक्षा और कड़ी कर दी गई थी।

MOLITICS SURVEY

क्या संतोष गंगवार के बयान का असर महाराष्ट्र चुनाव में होगा ?

TOTAL RESPONSES :

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know