अखिलेश यादव का तंज, जब जनता को जान का भरोसा नहीं तो कैसा विकास और किस पर विश्वास?
Latest News
bookmarkBOOKMARK

अखिलेश यादव का तंज, जब जनता को जान का भरोसा नहीं तो कैसा विकास और किस पर विश्वास?

By India18 calender  19-Aug-2019

अखिलेश यादव का तंज, जब जनता को जान का भरोसा नहीं तो कैसा विकास और किस पर विश्वास?

सहारनपुर में पत्रकार भाइयों की हत्या के बाद प्रयागराज में 12 घंटे के भीतर 6 लोगों की हत्या के बाद समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने सोमवार को कानून-व्यवस्था को लेकर बीजेपी (BJP) को कटघरे में खड़ा किया है. अखिलेश ने ट्वीट करते हुए तंजा कसा है कि जब जनता को जान का भरोसा न हो तो फिर कैसा विकास और किस पर विश्वास?

अखिलेश यादव ने ट्वीट कर लिखा है, "सहारनपुर के पत्रकार भाइयों की हत्या के बाद प्रयागराज में 12 घंटों में 6 हत्या! बिगड़ती क़ानून व्यवस्था से उत्तर प्रदेश अब हत्या प्रदेश बनता जा रहा है. क्या भाजपा यूपी की यही पहचान बनाना चाहती है? जब जनता को जान का भरोसा ना हो तो फिर कैसा विकास और किस पर विश्वास?"

यूपी में चल रहा जंगलराज

उधर बसपा सुप्रीमो मायावती (Mayawati) ने भी ट्वीट कर प्रदेश की बिगड़ती कानून व्यवस्था को लेकर सरकार पर निशाना साधा है. मायावती ने लिखा, "यूपी की भाजपा सरकार में कानून का नहीं बल्कि यहां गुण्डों, बदमाशों, माफियाओं आदि का जंगलराज चल रहा है, जिस कारण अब पूरे प्रदेश में हर प्रकार के अपराध चरम पर हैं तथा हत्याओं की तो बाढ़ सी आ गयी लगती है. हर कोई असुरक्षित महसूस कर रहा है, जो अति-दुःखद व अति-दुर्भाग्यपूर्ण है."
प्रयागराज में 12 घंटे में 6 हत्याएं

प्रयागराज में बदमाशों के हौसले बुलंद हैं और पुलिस पस्त नजर आ रही है. संगमनगरी में एक ही दिन में 6 लोगों की हत्या से सनसनी फ़ैल गई. धूमनगंज के चौफटका में रास्ते के विवाद में तीन लोगों की निर्मम हत्या कर दी गई. अभी चौफटका ट्रिपल मर्डर से पुलिस उबर भी नहीं पाई थी कि अल्लापुर में एक व्यक्ति की गोली मारकर हत्या कर दी गई. इसके बाद थरवई इलाके में डबल मर्डर से जिले की कानून-व्यवस्था बेपटरी नजर आ रही है.

सहारनपुर में पत्रकार और भाई की हत्या

उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में रविवार को डबल मर्डर से हड़कंप मच गया है. यहां आपसी विवाद में समाचार पत्र से जुड़े एक पत्रकार और उसके भाई की गोली मारकर हत्या कर दी गई. बताया जा रहा है कि गोबर डालने को लेकर पड़ोस में रहने वाले राणा डेरी के लोगों से कहासुनी हुई थी. इसी बात को लेकर दोनों पक्षों में आज फिर एक बार विवाद हुआ, जिसमें पत्रकार आशीष और उसके भाई की घर में घुसकर गोली मार दी गई. गोली लगने से घायल आशीष और उसके भाई को इलाज के लिए जिला अस्पताल लाया गया, जहां इलाज के दौरान दोनों ने दम तोड़ दिया.

MOLITICS SURVEY

'ओला-ऊबर के कारण ऑटो सेक्टर में मंदी' - क्या निर्मला सीतारमण के इस बयान से आप सहमत है ?

हाँ
  20.75%
नहीं
  69.81%
कुछ कह नहीं सकते
  9.43%

TOTAL RESPONSES : 53

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know