जम्मू-कश्मीरः अमित शाह की हिदायत के बाद एक्टिव मोड में पार्टी नेता, इस वजह से बैठकों का दौर जारी
Latest News
bookmarkBOOKMARK

जम्मू-कश्मीरः अमित शाह की हिदायत के बाद एक्टिव मोड में पार्टी नेता, इस वजह से बैठकों का दौर जारी

By Amarujala calender  19-Aug-2019

जम्मू-कश्मीरः अमित शाह की हिदायत के बाद एक्टिव मोड में पार्टी नेता, इस वजह से बैठकों का दौर जारी

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और महासचिव राम माधव की हिदायत के तहत प्रदेश भाजपा अनुच्छेद 370 हटने के बाद जम्मू कश्मीर में बेहतर माहौल बनाने के लिए जन संपर्क बनाने में जुटी हुई है। इस संदर्भ में समाज के विभिन्न वर्गों से भाजपा नेताओं की पार्टी मुख्यालय व इससे बाहर बैठकों का दौर जारी है।भाजपा की तरफ से कोशिश की जा रही हैं कि अनुच्छेद 370 के हटने के बाद कहीं से भी दुष्प्रचार न हो पाए और लोगों को जम्मू कश्मीर के केंद्र शासित प्रदेश बनने से होने वाले लाभ बारे भी बताया जाएं। इस कड़ी में समन्वय कमेटी को अहम जिम्मेदारी दी गई है। रविवार को पार्टी मुख्यालय में प्रमुख नागरिकों व समाज के विभिन्न वर्गो से जुड़े लोगों को पार्टी मुख्यालय बुलाया गया।
तीन राज्यों में चुनाव से ठीक पहले मोहन भागवत ने फिर फोड़ा आरक्षण बम
इससे पहले रविवार को राज्यमंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि अनुच्छेद 370 हटाने के बाद अब अगला लक्ष्य पाकिस्तान के अवैध कब्जे वाले जम्मू कश्मीर के हिस्से को वापस भारत गणराज्य में मिलाने का है। जम्मू स्थित भाजपा मुख्यालय में सिटीजन मीट कार्यक्रम में डॉ. सिंह ने कहा अनुच्छेद 370 पर कांग्र्रेस और कश्मीर में उसकी सहयोगी पार्टी नेशनल कांफ्रेंस ने ऐसी कल्पना का जाल बिछाया था कि यह अनुच्छेद कभी भी टूट नहीं सकता है। इस वजह से यह दोनों पार्टियां विश्व के अन्य देशों को भी यह समझाती रही कि जम्मू-कश्मीर में राजनीतिक शासन के लिए अनुच्छेद 370 जरूरी है।

केंद्रीय राज्य मंत्री (पीएमओ) डॉ. जितेंद्र सिंह का कहना है कि मोदी सरकार ने एक झटके में कांग्रेस, नेकां की कल्पनाओं को नष्ट कर दिया। इसके कारण वह तड़प रही हैं। भाजपा कार्यालय में रविवार को डॉ. सिंह ने कहा अब अगला लक्ष्य अवैध कब्जे वाले जम्मू कश्मीर के हिस्से को पाकिस्तान से वापस लेेने का है। उन्होंने कहा अनुच्छेद 370 की वजह से जम्मू कश्मीर के लोगों व राज्य को काफी नुकसान उठाना पड़ा। देश के अन्य हिस्सों की तरह विकास यहां पर नहीं हो पाया।

MOLITICS SURVEY

क्या संतोष गंगवार के बयान का असर महाराष्ट्र चुनाव में होगा ?

हाँ
  50%
नहीं
  50%
पता नहीं
  0%

TOTAL RESPONSES : 2

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know