कर्फ़्यू में बेबस कश्मीर की दावत, क्या साथ मनाएँगे ईद?
Latest News
bookmarkBOOKMARK

कर्फ़्यू में बेबस कश्मीर की दावत, क्या साथ मनाएँगे ईद?

By Satyahindi calender  12-Aug-2019

कर्फ़्यू में बेबस कश्मीर की दावत, क्या साथ मनाएँगे ईद?

आज ईद है, बकरीद। कश्मीर के वे लोग जो हिंदुस्तान में हैं या उसकी राजधानी में हैं, आज जंतर मंतर पर ईद मनाने इकट्ठा हो रहे हैं। आपको भी दावत दी है। क्या आप उनके साथ ईद मनाएँगे? वे अपने घर-बार से दूर हैं। जाना मुमकिन नहीं और जाना सुरक्षित भी नहीं। कश्मीर अभी फ़ौजी गिरफ़्त में है। आख़िर हिंदुस्तान दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी ताक़त है! उससे मुक़ाबला आसान तो नहीं।
आपने वह वीडियो देखा होगा जिसमें भारत के तीन सबसे ताक़तवर लोगों में से एक इस कर्फ़्यू के बीच कश्मीर की सड़क पर इत्मिनान से टहल रहा है, खा-पी रहा है, क़ुरबानी के लिए लाए गए मवेशियों की क़ीमत पूछ रहा है। इसे हिंदुस्तान के आधिकारिक सूचना विभाग ने दुनिया के लिए जारी किया है: देख लो! कश्मीर में सब कुछ ठीक है। कश्मीर में अमन है। लोग अमन-चैन से हैं।
झूठ-छल की मज़बूत दीवार में दरार
दरार झूठ और छल की मज़बूत से मज़बूत दीवार में पड़ती है। सो, इस तसवीर में भी एक दरार है। भारत के मुख्य सुरक्षा सलाहकार जब ठिठोली के अन्दाज़ में बच्चे से पूछते हैं कि तुम ख़ुश हो तो वह असमंजस में सर हिलाता भर है। लेकिन एक बूढ़ा बिना उत्तेजित हुए, मुस्कुराते हुए हस्तक्षेप करता है: यहाँ कौन ख़ुश है! हतप्रभ और खिसियाए हुए सुरक्षा प्रमुख कहते हैं, बच्चे तो ख़ुश हैं! वह बूढ़ा झूठ की जो दीवार खड़ी की जा रही है, उसमें अपनी सादा मुस्कराहट और एक शांत सवाल से सुराख़ कर देता है। उस छेद से हम कश्मीर की सचाई देख सकते हैं। कश्मीर की रूह में झाँक भी सकते हैं। क्या उस बुज़ुर्गवार को इसकी सज़ा दी गई? हमें यह मालूम है कि कश्मीर में रियायत की जगह नहीं। सो, हम उम्मीद करें कि वे बुज़ुर्गवार और वह बच्चा, दोनों आज ईद मना रहे होंगे! 
GSP के जरिए भारत को झटका देना चाहते थे डोनाल्‍ड ट्रंप, यूं उल्टा पड़ा दांव
आत्मा की ताक़त
उस बुज़ुर्ग को यह हिम्मत कैसे आई? इसका जवाब कश्मीर की निगरानी कर रहे उसी हिंदुस्तान के एक क़त्ल कर दिए गए महात्मा की बात में है जिन्होंने कहा था कि एक चीज़ होती है आत्मा की ताक़त, अंग्रेज़ी में वे उसे ‘सोल-फ़ोर्स’ कहते थे, जो किसी भी मिलिट्री ताक़त से कहीं अधिक बलवती और स्थायी है। उस आत्मा को झुकना, तोड़ना मुमकिन नहीं हुआ है आज तक इंसानी इतिहास में। बंदूक़ जाम हो जा सकती है, उसमें जंग लग सकता है, फ़ौजी बूट सड़ और गल सकते हैं, लेकिन इस आत्मा को न पानी गला सकता है और न आग जला सकती है। सिर्फ़ लोभ और भय ही उसे कमज़ोर कर सकता है। इस आत्मा का देह से रिश्ता है, लेकिन यह देह से आज़ाद भी हो सकती है। यह भी उसी महात्मा का कहा है कि आप मेरे शरीर पर क़ब्ज़ा कर सकते हैं, लेकिन मेरी आत्मा पर नहीं।
आततायी की रूह भी मरती है
इंसानियत सिर्फ़ उनकी नहीं कुचली जाती जिन पर क़ब्ज़ा किया जाता है, जो आततायी हैं उनकी रूह भी मर जाती है। क्योंकि वे अपने लिए सिर्फ़ नफ़रत और बददुआ ही इकट्ठा कर रहे हैं। इस क़ब्ज़े को ख़त्म करना आततायी का वास्तव में ख़ुद को आज़ाद करना है, उसे नहीं जिसके सीने पर वह चढ़ बैठा है। अन्याय के इस रिश्ते में आततायी को बहुत ताक़त लगानी होती है। यह ग़ैर-इंसानी है। अपने चारों ओर अपने लिए घृणा से उनका भी दम घुटना तय है। यह क़ीमत क्यों दें? कुछ लोग ईद के इस न्योते में इसमें चुनौती देख सकते हैं। कुछ की त्योरियाँ चढ़ सकती हैं कि हमने तो सोचा था कि तोड़ दिया हमें, लेकिन ये मुस्करा रहे हैं। ये त्योहार मना रहे हैं। और हमें शामिल होने बुला भी रहे हैं! यह आपका-हमारा इम्तिहान है कि हम इस ईद के न्योते का कैसा जवाब देते हैं?

MOLITICS SURVEY

'ओला-ऊबर के कारण ऑटो सेक्टर में मंदी' - क्या निर्मला सीतारमण के इस बयान से आप सहमत है ?

TOTAL RESPONSES : 42

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know