क्या यूपी में विपक्ष की राजनीति की धुरी बनेंगी प्रियंका?
Latest News
bookmarkBOOKMARK

क्या यूपी में विपक्ष की राजनीति की धुरी बनेंगी प्रियंका?

By Theprint calender  20-Jul-2019

क्या यूपी में विपक्ष की राजनीति की धुरी बनेंगी प्रियंका?

सोनभद्र कांड को लेकर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गाँधी की सक्रियता ने हार से पस्त कांग्रेसियों में जान फूंक दी है। आदिवासियों के नरसंहार के बाद घटनास्थल को जा रही प्रियंका को योगी सरकार ने मिर्ज़ापुर में हिरासत में लेकर चुनार किले के गेस्ट हाउस में क़ैद कर दिया। प्रियंका ने प्रशासन की ओर से माँगी गयी 50000 की जमानत भरने से भी इनकार कर दिया है। सोनभद्र जाने पर अड़ीं प्रियंका ने शुक्रवार रात को किला छोड़ने से इनकार कर दिया। इस गेस्ट हाउस में काफ़ी देर तक पानी और बिजली की परेशानी रही। शाम सात बजे से साढ़े आठ बजे तक प्रियंका अंधेरे में बैठी रहीं। इस दौरान कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने मोबाइल टार्च की रोशनी से उजाला किया। चुनार किले पर जमे अधिकारियों का कहना है कि जमानत न भरने पर प्रियंका को 14 दिनों की जेल पर भेजा जा सकता है। चुनार किले पर कांग्रेस महासचिव पीएल पुनिया, ललितेश पति त्रिपाठी समेत हजारों कांग्रेसी जमा रहे। 
'हिंदी का अपमान संसद से ही शुरू होता है'
बैकफ़ुट पर आई योगी सरकार 
प्रियंका की गिरफ़्तारी के बाद कांग्रेस योगी सरकार के निशाने पर आ गयी है। शुक्रवार को मुख्यमंत्री योगी ने पहले सदन में और फिर बाहर भी पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार को घटना के लिए दोषी बताते हुए कहा कि जमीन का घोटाला 1955 व 1989 में हुआ था और दोनों समय कांग्रेस की सरकारें थीं। उन्होंने कहा कि इस घटना की व्यापक जाँच होगी और सभी तथ्य सामने आएँगे। देर शाम उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा मीडिया के सामने आए और कहा कि प्रियंका राजनीति कर रही हैं। 
आधी रात तक जागीं प्रियंका
चुनार किले में क़ैद प्रियंका गाँधी आधी रात तक ज़मीन पर बैठी रहीं। प्रियंका के साथ कांग्रेस के दस कार्यकर्ताओं को भी बंद किया गया है। रात लगभग दस बजे मिर्ज़ापुर जिला प्रशासन के अधिकारियों ने प्रियंका से 50000 के जमानत बांड पर दस्तख़त करने और जमानत भरने को कहा जिससे उन्होंने इनकार कर दिया। रात लगभग एक बजे एडीजी वाराणसी ब्रजभूषण, कमिश्नर मिर्ज़ापुर दीपक अग्रवाल अन्य अधिकारियों के साथ उनसे मिलने पहुँचे लेकिन प्रियंका ने सबको बैरंग वापस कर दिया और सोनभद्र जाने की बात दोहरायी। प्रियंका ने शनिवार सुबह ट्वीट कर पूछा है कि क्या परेशान और दुखी लोगों के आंसुओं को पोछना अपराध है?
शनिवार सुबह उन्होंने कार्यकर्ताओं की लायी हुई बिना दूध की चाय पीकर दिन की शुरुआत की और चुनार गेस्ट हाउस के लान में आकर सूर्य नमस्कार किया। प्रियंका ने प्रदेश भर में कांग्रेस कार्यकर्ताओं के प्रदर्शन की जानकारी लेने के बाद सभी से शांति बनाए रखने को कहा। प्रियंका ने सुबह फिर से सोनभद्र जाने की बात दोहरायी और कहा कि उन्हें मिर्ज़ापुर में गिरफ़्तार किया गया जहाँ धारा 144 भी नहीं लगी थी। उन्होंने कहा कि वह महज चार लोगों के साथ सोनभद्र जाना चाहती थीं पर प्रशासन ने यह बात भी नहीं मानी। 
जगह-जगह बवाल, कई नेता गिरफ़्तार
प्रियंका गाँधी की गिरफ़्तारी पर लखनऊ सहित कई जिलों मे बवाल मच गया। सहारनपुर में कांग्रेस नेता इमरान मसूद कलेक्ट्रेट पर धरने पर बैठ गए। इमरान ने कहा कि योगी सरकार तानाशाह हो गयी है और प्रदेश में अपराधों की बाढ़ आ गयी है। उन्होंने कहा जब तक प्रियंका गाँधी को चुनार से रिहा नहीं किया जाता तब तक वह धरने पर बैठे रहेंगे। 

MOLITICS SURVEY

क्या आरक्षण पर मोहन भागवत के बयान से चुनावों में बीजेपी को नुकसान होगा?

TOTAL RESPONSES : 17

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know

Download App