सोनभद्र: 30 ट्रैक्‍टर में भरकर आए 300 लोग, गांव घेरकर लगा दिया लाशों का अंबार
Latest News
bookmarkBOOKMARK

सोनभद्र: 30 ट्रैक्‍टर में भरकर आए 300 लोग, गांव घेरकर लगा दिया लाशों का अंबार

By Tv9bharatvarsh calender  18-Jul-2019

सोनभद्र: 30 ट्रैक्‍टर में भरकर आए 300 लोग, गांव घेरकर लगा दिया लाशों का अंबार

 उत्तर प्रदेश के सोनभद्र में जमीनी विवाद को लेकर हुए नरसंहार में पुलिस ने 24 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस को इस नरसंहार में इस्तेमाल असलहे भी बरामद हुए हैं. गिरफ्तारी ग्राम प्रधान के भतीजे सहित 12 लोगों की हुई है. एडीजी लॉ एंड ऑर्डर ने घटना स्थल का निरीक्षण किया है.
सोनभद्र के जमीनी विवाद की वारदात में 10 लोगों की मौत हो गई. घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है जिसमें कुछ की स्थिति गंभीर बनी हुई है. आईजी लॉ एंड ऑर्डर प्रवीण कुमार ने बताया कि घटना ग्रामसभा मूर्तिया के गांव उम्भा की है.
सोनभद्र के घोरावल थाना इलाके में हुए नरसंहार में पुलिस ने अभी तक 27 लोगों को नामजद और 60 पर अज्ञात मामला दर्ज किया है. पुलिस ने अभी तक कुल 24 लोगों को गिरफ्तार किया है. इस हत्या नरसंहार में इस्तेमाल किए गए दो असलहों को भी पुलिस ने बरामद कर लिया है.
वहीं, जिला अस्पताल में आये 9 मृतकों का पोस्टमार्टम रात में करा लिया गया है. इस समय जिला अस्पताल छावनी के रूप में तब्दील हो गया है. गांव की बिगड़ी व्यवस्था को देखते हुए पर्याप्त फोर्स लगाई गई हैं.
रिपोर्ट्स के मुताबिक, करीब 30 ट्रैक्‍टर-ट्राली पर 300 के आसपास लोग सवार होकर अचानक गांव में दाखिल हुए. इनमें से किसी के हाथ में डंडे और हंसिया थे तो कोई कट्टे और बंदूकें लेकर आया था. पहले तो ऐसा लगा जैसे ये सब किसी कार्यक्रम में जा रहे हों. लेकिन हथियारों से लैस लोग सीधे गांव की एक 90 बीघा जमीन पर जा पहुंचे और फिर बवाल शुरू हो गया.
उन्होंने बताया कि प्रधान ने दो साल पहले वहीं पर 90 बीघे जमीन खरीदी जिस पर अपने समर्थकों के साथ कब्जा करने गया था. स्थानीय लोगों ने इसका विरोध किया. इसके बाद बवाल हो गया. ये बवाल देखते ही देखते नरसंहार में बदल गया.
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मृतकों के परिवार के प्रति सहानुभूति व्यक्ति की है. उन्होंने घायलों को तत्काल चिकित्सीय सहायता देने का निर्देश दिया है. इस संबंध में सोनभद्र के जिला मजिस्ट्रेट को आदेश जारी किया गया है.
मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने उप्र के डीजीपी को आदेश दिया है कि इस मुद्दे पर वह व्यक्तिगत नजर रखें और घटना की जांच कराएं. स्थानीय लोगों के मुताबिक विवाद के दौरान आपस में असलहे से फायरिंग और गड़ासा चलने से कई लोग गंभीर रूप से घायल हो गए.
ग्रामीणों के अनुसार, प्रधान पक्ष और गांव के दूसरे पक्ष को लेकर जमीन का विवाद था. बुधवार की दोपहर असलहों से लैस होकर जमीन के विवाद को लेकर बहस शुरू हुई जिसने खूनी संघर्ष का रूप ले लिया.
गंभीर रूप से घायल दो लोगों को वाराणसी रेफर कर दिया गया है. मामले की जानकारी होने के बाद प्रशासनिक अधिकारी भी मौके पर पहुंचे और घायलों के बेहतर इलाज के लिए आवश्यक दिशा-निर्देश दिया.

MOLITICS SURVEY

क्या आरक्षण पर मोहन भागवत के बयान से चुनावों में बीजेपी को नुकसान होगा?

TOTAL RESPONSES : 38

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know