कोलकाता बहू बाजार में मेट्रो कार्य के चलते कई मकान क्षतिग्रस्त, हाईकोर्ट ने निर्माण कार्य पर लगाई रोक
Latest News
bookmarkBOOKMARK

कोलकाता बहू बाजार में मेट्रो कार्य के चलते कई मकान क्षतिग्रस्त, हाईकोर्ट ने निर्माण कार्य पर लगाई रोक

By Jagran calender  04-Sep-2019

कोलकाता बहू बाजार में मेट्रो कार्य के चलते कई मकान क्षतिग्रस्त, हाईकोर्ट ने निर्माण कार्य पर लगाई रोक

कोलकाता के बहू बाजार में ईस्ट वेस्ट मेट्रो के कार्य के चलते कई और मकान क्षतिग्रस्त हो गए हैं। इससे लोगों में दहशत व्याप्त हो गया है। मालूम है कि पिछले दिनों कार्य के चलते कई घरों में दरारें पड़ गई। हालांकि काम अभी बंद कर दिया गया है। दूसरी ओर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने पीड़ितों को घर देने का ऐलान किया है। 
मकान ढहने से पड़ा है शादी का सामान
जानकारी हो कि मेट्रो टनल की खुदाई के कारण बहूबाजार इलाके में मंगलवार को एक और मकान ढह गया, जिसके कारण एक शादी अटक गई है। बहूबाजार के 13ए दुर्गा पितूरी लेन स्थित तीन मंजिला मकान में शील परिवार रहता था। बेटी तृषा की अगले साल 22 जनवरी को शादी तय हो चुकी है लेकिन उस मकान के ढहने के बाद अब अनिश्चितता पैदा हो गई है। तृषा रवींद्र भारती विश्वविद्यालय में एमए की छात्रा है। उसकी शादी को लेकर परिवार में खासा उत्साह था लेकिन अचानक रंग में भंग पड़ गया। मकान ढहने के बाद शील परिवार फिलहाल सेंट्रल एवेन्यू स्थित एक होटल में रह रहा है।
तृषा की मां सोनाली ने बताया-
शादी की सारी खरीदारी हो चुकी है। करीब साढ़े 10 लाख की खरीदारी हुई है। सारा सामान घर में भी पड़ा था। अलमारी में करीब 12 लाख रुपये के गहने रखे थे। थोड़ा-थोड़ा करके उन्होंने रुपये जुटाए थे। वे किसी तरह मकान में घुसकर गहने व शादी का अन्य सामान लाना चाहते थे कि प्रशासन की ओर से इसकी मंजूरी नहीं दी गई। परिवार के मुखिया रंजन शील का मकान के पास ही छापाखाना था। वह भी ढह गया है। तृषा का भाई तिरुअनंतपुरम में पढ़ाई कर रहा है। उसे परिवारवालों ने अब तक कुछ नहीं बताया है वरना वह पढ़ाई छोड़कर आ गया होता। 
हाईकोर्ट ने लगाई रोक
कलकत्ता हाईकोर्ट ने बहूबाजार इलाके में मेट्रो टनल के निर्माण कार्य पर रोक लगा दी है। मुख्य न्यायाधीश टीडी राधाकृष्णन की खंडपीठ ने 16 सितंबर तक मेट्रो रेलवे प्रबंधन से मामले पर रिपोर्ट मांगी है, जिसे देखने के बाद ही फिर से टनल की खुदाई शुरू करने की अनुमति दी जाएगी। अदालत ने टनल के लिए चल रही खुदाई से मकानों के क्षतिग्रस्त होने की घटना को गंभीर बताया है।
गौरतलब है कि खुदाई के दौरान पानी के रिसाव के कारण कोलकाता मेट्रो रेल निगम (केएमआरसी) ने खुद ही शनिवार से काम बंद कर दिया था। केएमआरसी की ओर से इस दिन अदालत को खुद भी इसकी जानकारी दी गई और कहा गया कि अदालत की मंजूरी मिलने के बाद ही फिर से काम शुरू किया जाएगा। केएमआरसी ने पांच मकानों को नुकसान पहुंचने की बात कही है।
गौरतलब है कि एक स्वयंसेवी संस्था की ओर से हाईकोर्ट में मेट्रो टनल के निर्माण कार्य के चलते बहूबाजार के लोगों को हो रहे नुकसान को लेकर जनहित याचिका दायर की थी। 
 
गौरतलब है कि खुदाई से इलाके की कई इमारतों में दरार पड़ गई हैं। कुछ मकान भी ढह गए, जिसके बाद 323 परिवारों को वहां से हटाना पड़ा। उन लोगों को फिलहाल होटलों में ठहराया गया है। बताया गया है कि सुरंग-बोरिंग वर्क के दौरान बोरिंग मशीन के एक्विफर से टकराने से यह हादसा हुआ था। नजदीक के घरों में एहतियातन बिजली भी काट दी गई है।
'ऐसे नेताओं की जरूरत है, जो प्रधानमंत्री से बिना डरे बात कर सकें'
इस घटना के बाद सोमवार को घटनास्थल का दौरा करने पहुंची मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने पीडि़त परिवारों को हर संभव मदद का आश्वासन दिया था। इससे पहले राज्य के शहरी विकास मंत्री व कोलकाता के मेयर फिरहाद हकीम, सांसद सुदीप बंद्योपाधायाय और विधायक नयना बंद्योपाध्याय भी मौके पर पहुंचे थे। 
 

MOLITICS SURVEY

क्या संतोष गंगवार के बयान का असर महाराष्ट्र चुनाव में होगा ?

हाँ
  50%
नहीं
  50%
पता नहीं
  0%

TOTAL RESPONSES : 2

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know