पंजाब कांग्रेस की गतिविधियां ठप, जाखड़ के इस्‍तीफे के बाद सूना पड़ा मुख्‍यालय
Latest News
bookmarkBOOKMARK

पंजाब कांग्रेस की गतिविधियां ठप, जाखड़ के इस्‍तीफे के बाद सूना पड़ा मुख्‍यालय

By Jagran calender  04-Sep-2019

पंजाब कांग्रेस की गतिविधियां ठप, जाखड़ के इस्‍तीफे के बाद सूना पड़ा मुख्‍यालय

पंजाब कांग्रेस की गतिविधियां पिछले तीन माह से लगभग ठप पड़ी हैं। राज्य में मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के नेतृत्व वाली सरकार होने के बावजूद कांग्रेस भवन में रौनक गायब है। सुनील जाखड़ ने गुरदासपुर लोकसभा हलके से चुनाव हारने के बाद 27 मई को अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था। हालांकि, पार्टी ने सुनील जाखड़ का इस्तीफा स्वीकार नहीं किया है। जाखड़ की तरफ से पार्टी वर्करों को कोई कार्यक्रम नहीं दिया जा रहा।
दरअसल जाखड़ के इस्तीफे के बाद पार्टी वर्कर मायूस हो गए हैं। वर्कर सुनील जाखड़ के माध्यम से अपनी बात सरकार तक पहुंचाने में सहज महसूस करते थे। पार्टी के कई विधायक भी सुनील जाखड़ के इस्तीफे के बाद अपने आप को अलग-थलग महसूस कर रहे हैं। दिलचस्प बात है कि पार्टी के बड़े नेताओं की याद में आयोजित किए गए समागमों में भी पार्टी का कोई बड़े कद का नेता नहीं पहुंचा।
लंबे समय से कांग्रेस भवन में तैनात एक सेवक ने बताया कि पार्टी की ऐसी हालत उन्होंने विरोधी पक्ष के समय भी नहीं देखी। पार्टी के सचिव और मुख्यमंत्री के राजनीतिक सचिव कैप्टन संदीप संधू तो कांग्रेस भवन पहुंचते हैं, लेकिन मंत्रियों की आमद न के बराबर है। यह भी बताया जाता है कि लोकसभा चुनाव में हार के बाद पार्टी हाईकमान ने देश भर में पहले ही पार्टी के प्रवक्ताओंं की मीडिया डिबेट में शामिल होने पर रोक लगाई हुई है। सरकार का पक्ष कोई नहीं रख रहा है, जिस कारण राजनीतिक विरोधी सरकार पर भारी पड़ रहे हैं। खासकर बेअदबी, सीबीआइ की क्लोजर रिपोर्ट व नशे के मुद्दे पर विरोधी धड़े की तरफ से लगातार सरकार पर हमले किए जा रहे हैं।

MOLITICS SURVEY

क्या संतोष गंगवार के बयान का असर महाराष्ट्र चुनाव में होगा ?

TOTAL RESPONSES : 2

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know