असम: सहकर्मी की मौत पर डॉक्टरों की हड़ताल, भीड़ ने पीट-पीटकर करी दी थी हत्या
Latest News
bookmarkBOOKMARK

असम: सहकर्मी की मौत पर डॉक्टरों की हड़ताल, भीड़ ने पीट-पीटकर करी दी थी हत्या

By News18 calender  03-Sep-2019

असम: सहकर्मी की मौत पर डॉक्टरों की हड़ताल, भीड़ ने पीट-पीटकर करी दी थी हत्या

असम (Assam) के चाय बगान में एक बुजुर्ग डॉक्टर (Doctor) की पीट-पीटकर हत्या करने का माले में डॉक्टर 24 घंटे की हड़ताल पर हैं. इस हड़ताल के दौरान डॉक्टर सिर्फ आपात सेवा मुहैया कराएंगे. जोरहट जिले में शनिवार को तियोक चाय बगान  (Tea Plantation) के एक अस्पताल में एक बगान कर्मी की मौत के बाद उसके रिश्तेदारों ने 73 वर्षीय डॉक्टर देबेन दत्त की जमकर पिटाई की थी. जिसके बाद उनकी इलाज के दौरान मौत हो गई.

भारतीय चिकित्सा एसोसिएशन (IMA) की असम इकाई के आह्वान पर सरकारी-निजी और कंसल्टेशन चैम्बरों के डॉक्टर सुबह 6 बजे से काम नहीं कर रहे हैं, लेकिन वह मरीजों को आपात सेवा मुहैया करा रहे हैं.

दोषियों को कड़ी सजा देने की मांग
स्वास्थ्य अधिकारियों ने बताया कि छह सरकारी मेडिकल कॉलेज एंड सिविल हॉस्पिटल, फैमिली रेफरल इकाइयां और प्राथमिक चिकित्सा केंद्र सिर्फ आपात सेवा और दुर्घटना विभाग में सेवा दे रहे हैं. आईएमए ने सरकार से दोषियों को कड़ी सजा देने की मांग की है और चाय बगान समेत सभी जगह के स्वास्थ्य प्रतिष्ठानों में सर्विलांस कैमरा लगाने सहित अन्य सुरक्षा उपाय बढ़ाने की मांग की है.
 
26 लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार
तियोक चाय बागान से कुल 26 लोगों को हिरासत में लिया गया है. पुलिस महानिरीक्षक (कानून व्यवस्था) दीपक केडिया ने स्थिति का जायजा लेने के लिए चाय बगान का दौरा किया.

मजिस्ट्रेट जांच के आदेश
जोरहट की उपायुक्त रोशनी अपारंजी कोराटी ने दत्त पर हमला के मामले में मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिए हैं. दत्त चाय बगान के अस्पताल में सेवानिवृत्ति के बाद बिना पारिश्रमिकी के काम कर रहे थे.

MOLITICS SURVEY

'ओला-ऊबर के कारण ऑटो सेक्टर में मंदी' - क्या निर्मला सीतारमण के इस बयान से आप सहमत है ?

हाँ
  20.75%
नहीं
  69.81%
कुछ कह नहीं सकते
  9.43%

TOTAL RESPONSES : 53

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know