नर्मदा सत्याग्रह: मेधा पाटकर ने खत्म किया अनशन, 9 सितंबर को CM के साथ होगी चर्चा
Latest News
bookmarkBOOKMARK

नर्मदा सत्याग्रह: मेधा पाटकर ने खत्म किया अनशन, 9 सितंबर को CM के साथ होगी चर्चा

By News18 calender  16-Sep-2019

नर्मदा सत्याग्रह: मेधा पाटकर ने खत्म किया अनशन, 9 सितंबर को CM के साथ होगी चर्चा

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के बड़वानी (Barwani) जिले में नर्मदा बचाओ आंदोलन (Narmada Bachao Andolan) की नेत्री मेधा पाटकर (Medha Patkar) समेत अन्य डूब प्रभावितों ने अनशन खत्म कर दिया है. कमलनाथ के प्रतिनिधिमंडल के साथ 3 घंटे तक चले सवाल-जवाब से संतुष्ट होकर उन्होंने अपना अनशन तोड़ दिया है. आगामी 9 सितंबर को भोपाल में डूब प्रभावितों और आंदोलनकारियों के साथ मुख्यमंत्री की बैठक होना तय किया गया है. आंदोलनकारियों का कहना है कि बैठक का नतीजा नहीं निकलने पर मेधा पाटकर समेत डूब प्रभावित भोपाल में ही सत्याग्रह (Satyagrah) शुरू कर देंगे.

नींबू पानी पिलाकर तुड़वाया अनशन
सोमवार रात करीब 10.30 बजे पूर्व मुख्य सचिव शरदचंद्र बेहार (Former Chief Secretary Sharad Chandra Behar) ने नींबू पानी पिलाकर मेधा पाटकर का अनशन खत्म करवाया. पूर्व मुख्य सचिव ने कहा है कि सरदार सरोवर बांध को 139 मीटर तक नहीं भरने और डूब प्रभावितों के पुनर्वास समेत सभी मुद्दों पर भोपाल में 9 सितंबर को सीएम चर्चा करने लिए तैयार हो गए हैं.

मिली CM की चिट्ठी
मेधा पाटकर ने पूर्व मुख्य सचिव से मिले इस आश्वासन के बाद अनशन खत्म कर दिया. पूर्व मुख्य सचिव शरदचंद्र बेहार अपने साथ सीएम की एक चिट्ठी भी लेकर आए थे. चिट्ठी में 8 बिंदुओं के तहत सभी का पुनर्वास (Rehabilitation) करने और बांध के गेट खोलने का भरोसा दिलाया गया था.

सर्वे कराएगी सरकार
सोमवार रात करीब 10.30 बजे पूर्व मुख्य सचिव शरदचंद्र बेहार (Former Chief Secretary Sharad Chandra Behar) ने नींबू पानी पिलाकर मेधा पाटकर का अनशन खत्म करवाया. पूर्व मुख्य सचिव ने कहा है कि सरदार सरोवर बांध को 139 मीटर तक नहीं भरने और डूब प्रभावितों के पुनर्वास समेत सभी मुद्दों पर भोपाल में 9 सितंबर को सीएम चर्चा करने लिए तैयार हो गए हैं.

सर्वे कराएगी सरकार
सीएम द्वारा भेजी गई चिट्ठी में यह भी बताया गया है कि पहले घोषित किए अपात्र (Ineligible) परिवारों के प्रकरणों का फिर से सर्वे करवाकर उन्हें पुनर्वास संबंधित लाभ देने के लिए कलेक्टर को निर्देश दिए गए हैं. वहीं, वर्तमान सरकार ने 115 नए परिवारों को पात्र मानकर गुजरात सरकार से 60 लाख रुपए की राशि मांगी है. हालांकि अभी तक राशि नहीं मिली है. सीएम ने लिखा है कि बांध में जल भराव का स्तर नर्मदा नियंत्रण प्राधिकरण (Narmada Control Authority) तय करता है, लेकिन वर्तमान में प्राधिकरण निष्पक्ष रूप से काम नहीं कर रहा है.

किसान संघर्ष समिति ने PM से की मांग

वहीं, किसान संघर्ष समिति ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम एसडीएम को आवेदन देकर सरदार सरोवर बांध को 122 मीटर तक भरने की मांग की है.

मेडिकल जांच में डॉक्टर ने कहा- चिंता की बात नहीं 

अनशन तोड़ने के बाद डॉक्टर्स की टीम ने मेधा पाटकर की मेडिकल जांच की. डॉक्टर्स ने बताया कि 10 दिनों तक अनशन रखने के कारण पाटकर कमजोर हो गईं हैं, लेकिन चिंता की कोई बात नहीं है.

MOLITICS SURVEY

'ओला-ऊबर के कारण ऑटो सेक्टर में मंदी' - क्या निर्मला सीतारमण के इस बयान से आप सहमत है ?

हाँ
  20.75%
नहीं
  69.81%
कुछ कह नहीं सकते
  9.43%

TOTAL RESPONSES : 53

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know