‘पहले हम भारत से श्रीनगर छीन लेने की बात करते थे लेकिन अब मुजफ्फराबाद बचाने के लाले पड़े हैं’
Latest News
bookmarkBOOKMARK

‘पहले हम भारत से श्रीनगर छीन लेने की बात करते थे लेकिन अब मुजफ्फराबाद बचाने के लाले पड़े हैं’

By Satyagrah calender  27-Aug-2019

‘पहले हम भारत से श्रीनगर छीन लेने की बात करते थे लेकिन अब मुजफ्फराबाद बचाने के लाले पड़े हैं’

पाकिस्तान की पूर्व प्रधानमंत्री बेनजीर भुट्टो के बेटे और पाकिस्तान पीपल्स पार्टी (पीपीपी) के अध्यक्ष बिलावल भुट्टो जरदारी ने ‘कश्मीर नीति’ को लेकर अपने देश के प्रधानमंत्री इमरान खान पर तंज कसा है. उन्होंने कहा है, ‘पहले हम भारत से श्रीनगर छीन लेने की बात करते थे लेकिन मौजूदा सरकार की नाकामियों के चलते आज मुजफ्फराबाद (पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर की राजधानी) बचाने के भी लाले पड़ गए हैं.’ खबरों के मुताबिक बिलावल भुट्टो ने यह बात अडियाला जेल में कैद अपने पिता आसिफ अली जरदारी से मुलाकात करने के बाद पत्रकारों के साथ बातचीत करते हुए कही.
यह भी पढ़ें: पीवी सिंधू ने पीएम मोदी से की मुलाकात, खेल मंत्री ने सौंपा 10 लाख रुपये का चेक
इस मौके पर बिलावल भुट्टो ने पाकिस्तान की सेना पर भी तंज कसा और इमरान खान को ‘इलेक्टेड’ (जनता द्वारा चुना गया) के बजाय ‘सिलेक्टेड’ (सेना द्वारा पद पर बैठाया गया) नेता बताया. उन्होंने आगे कहा, ‘देश की जनता महंगाई की सुनामी में डूब रही है. अर्थव्यवस्था बदहाल है. कश्मीर हमारे हाथों से निकल गया है. अब सवाल यह है कि इसके लिए हम ‘सिलेक्टेड’ को दोषी ठहराएं या ‘सिलेक्टर्स’ (सेना) को. पाकिस्तान की जनता सिलेक्टेड और सिलेक्टर्स दोनों से इसका जवाब लेगी.’
इससे पहले इसी महीने भारत सरकार ने जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाली धारा 370 के अधिकांश प्रावधानों को खत्म कर दिया था. साथ ही जम्मू-कश्मीर राज्य पुनर्गठन विधेयक को भी संसद के दोनों सदनों में पारित करवाकर इस प्रदेश को दो केंद्र शासित प्रदेशों में बांटने का फैसला किया था. भारत के इस कदम पर इमरान खान और उनकी सरकार ने आपत्ति जताई थी जबकि भारत ने इसे अपना आंतरिक मामला बताते हुए उनकी आपत्तियों को सिरे से खारिज कर दिया था.

MOLITICS SURVEY

महाराष्ट्र में अगर शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस के गठबंधन की सरकार बनती है तो क्या उसका हाल भी कर्नाटक जैसा होगा ?

हाँ
  68.42%
ना
  15.79%
पता नहीं
  15.79%

TOTAL RESPONSES : 38

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know