अखिलेश सिंह को श्रद्धांजलि देने रायबरेली जाएंगी प्रियंका गांधी, CM योगी का भी दौरा
Latest News
bookmarkBOOKMARK

अखिलेश सिंह को श्रद्धांजलि देने रायबरेली जाएंगी प्रियंका गांधी, CM योगी का भी दौरा

By Aaj Tak calender  27-Aug-2019

अखिलेश सिंह को श्रद्धांजलि देने रायबरेली जाएंगी प्रियंका गांधी, CM योगी का भी दौरा

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मंगलवार को रायबरेली के दौरे पर हैं. सीएम योगी यहां विभिन्न कार्यक्रमों में हिस्सा लेने जा रहे हैं. साथ ही कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी कल रायबरेली जाएंगी. वह यहां रायबरेली से पूर्व कांग्रेस विधायक अखिलेश सिंह को श्रद्धांजलि देने पहुंच रही हैं जिनका 20 अगस्त को निधन हो गया था. इसके अलावा प्रियंका गांधी कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ कई कार्यक्रमों में भी हिस्सा लेंगी.
कोर्ट ने पी चिदंबरम की सीबीआई हिरासत 30 अगस्त तक बढ़ाई
प्रियंका गांधी का कार्यक्रम
प्रियंका गांधी सुबह 8 बजे लखनऊ से रायबरेली निकलेंगी. इसके बाद वहां 9.30 बजे के करीब विधायक अदिति सिंह के घर जाकर उनके दिवंगत पिता को श्रद्धांजलि अर्पित करेंगी. इसके बाद करीब 1.45 बजे रेल कोच फैक्ट्री जाकर उसके निजीकरण के खिलाफ संघर्ष कर रहे कर्मचारियों से मुलाकात करेंगी. कांग्रेस पार्टी रायबरेली कोच फैक्ट्री के निजीकरण को लेकर लगातार केंद्र की मोदी सरकार पर हमलावर रही है. प्रियंका गांधी इसके बाद लखनऊ के लिए रवाना होंगी जहां से हवाई मार्ग से शाम तक दिल्ली वापसी करेंगी.
उधर, योगी आदित्यनाथ भी मंगलवार को रायबरेली में रहेंगे. मुख्यमंत्री यहां दोपहर एक बजे पहुंच रहे हैं, इसके बाद वह राणा बेनी माधव मूर्ति स्थल पर पुष्पांजलि अर्पित करेंगे. सीएम योगी शहीद चौक जाएंगे और फिरोज गांधी कॉलेज में भी उनका कार्यक्रम रखा गया है. सीएम योगी  2 बजे के करीब रायबरेली से वापस लौट आएंगे.
बता दें कि रायबरेली कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी का संसदीय क्षेत्र है. इस इलाके में बीजेपी लगातार अपनी पैठ बढ़ाने की कोशिश कर रही है. दूसरी ओर सोनिया गांधी भले ही स्वास्थ्य कारणों से नियमित तौर पर यहां न आ सकें लेकिन उनकी बेटी प्रियंका लगातार रायबरेली के दौरे पर जाती रहती हैं. यहीं वजह है कि वह अखिलेश सिंह के निधन बाद कांग्रेस कार्यकर्ताओं का दुख बांटने के लिए वहां जा रही हैं.
कौन थे अखिलेश सिंह
अखिलेश सिंह रायबरेली में कांग्रेस के बड़े नेताओं में शुमार थे. गांधी परिवार से उनके रिश्ते बीच में खराब हुए थे. उसके बाद 2017 के विधानसभा चुनाव में उन्होंने सदर विधानसभा से कांग्रेस के टिकट पर अपनी बेटी अदिति सिंह को चुनाव लड़ाया था. बीते करीब दो-तीन सालों से अखिलेश सिंह बीमारी के कारण राजनीति में सीधे दखल नहीं रखते दिखाई दिए. पूर्व विधायक अखिलेश सिंह ने 90 के दशक में अपने राजनीतिक पारी शुरू की और विधायक बने. कांग्रेस पार्टी से विवाद के चलते पार्टी छोड़ी फिर निर्दलीय विधायक बने, 2011 में पीस पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव बने और 2012 में विधायक चुने गए थे.

MOLITICS SURVEY

क्या संतोष गंगवार के बयान का असर महाराष्ट्र चुनाव में होगा ?

हाँ
  50%
नहीं
  50%
पता नहीं
  0%

TOTAL RESPONSES : 2

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know