बड़ा खुलासा: बिहार विधानसभा में जॉब घोटाला, परीक्षा से लेकर इंटरव्यू तक में मिली गड़बड़ी
Latest News
bookmarkBOOKMARK

बड़ा खुलासा: बिहार विधानसभा में जॉब घोटाला, परीक्षा से लेकर इंटरव्यू तक में मिली गड़बड़ी

By Jagran calender  26-Aug-2019

बड़ा खुलासा: बिहार विधानसभा में जॉब घोटाला, परीक्षा से लेकर इंटरव्यू तक में मिली गड़बड़ी

विधानसभा के रसूखदार नेताओं-अफसरों ने हाईकोर्ट के आदेश को तोड़-मरोड़ कर विज्ञापन निकाला और फिर जिनके रिश्तेदार परीक्षा दे रहे थे, उन्हें ही मूल्यांकन का जिम्मा भी दे दिया। नंबर कम आए तो उसे भी बढ़ाया और तो और नंबर बढ़ाने के लिए इंटरव्यू राउंड भी लिया गया। ये सब सारा खेल हुआ था 2001-02 में विधानसभा में 90 क्लर्क की नौकरी में, अब इस पूरे खेल को राज विजिलेंस ब्यूरो की चार्जशीट ने खोला है।
ब्यूरो की चार्जशीट में लिखा कि कांग्रेस नेता सदानंद सिंह ने संवैधानिक पदधारक (विधानसभा अध्यक्ष) होने के बावजूद नियुक्ति प्रक्रिया की पवित्रता बनाए रखने के लिए कोई प्रयास नहीं किया। बल्कि चयन समिति में मनमाना परिवर्तन कर और उस पर कब्जा कर ऐसे सदस्यों को इसमें ले लिया, जिनके बच्चे-रिश्तेदार इस परीक्षा में उम्मीदवार बनाए गए थे। ये सब के सब नौकरी पा गए।
चार्जशीट में गड़बड़ी हुई उजागर, उसी ने की नियुक्ति 
सदानंद सिंह ने ऐसा तब किया था जब उनके पास नियुक्ति का अधिकार भी नहीं था। ब्यूरो की चार्जशीट कहती है कि "राज्यपाल के आदेश का उल्लंघन, आदेश की गलत व्याख्या कर, पद का दुरुपयोग करते हुए यह नियुक्ति इनके द्वारा कराई गई। बहाली की प्रक्रिया को शुरू करने से लेकर अंतिम रूप से नियुक्ति तक में उनकी भूमिका रही।
मामले की जब पूरी बात खुली तो सदानंद सिंह ने विजिलेंस को सफाई दी-" गड़बड़ी थी, तो इसे सेक्रेटरी को देखना-रोकना चाहिए था। वह नियुक्ति की सिफारिश ही नहीं करते। रिश्तेदारों को आप परीक्षा देने से कैसे रोक सकते हैं? हां, इसकी प्रक्रिया सही होनी चाहिए और सही तरीके से ही हुई।
बहरीन में कृष्ण मंदिर विदेश नीति का अमूल्य उपहार : सुशील मोदी
उन्होंने ये भी कहा कि विधानसभा में पदों को लेकर मेरे पास कभी, किसी  स्तर से, कोई आपत्ति नहीं आई।" इसका मतलब यह निकलता है कि सदानंद सिंह खुद को पूरी तरह अनजान और बेकसूर बताते हैं। लेकिन, उन्हें तथा अन्य लोगों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल करने वाला विजिलेंस ब्यूरो ऐसा नहीं मानता। इन निम्नवर्गीय लिपिक (एलडीसी) की नियुक्ति की जांच में एजेंसी को आश्चर्यजनक सबूत मिले हैं।
बता दें कि उस वक्त राजकिशोर रावत, चयन समिति के सदस्य थे। उनके बेटे संजय कुमार रावत को दूसरी चयन समिति के सदस्य रामेश्वर प्रसाद चौधरी ने 64 नंबर दिए। यह 62 में 2 जोड़कर दिया गया, जबकि प्रश्नों पर प्राप्तांक 63 है। संजय कुमार (क्रमांक 1802) को पहले 51 नंबर मिले। दोबारा जांच में यह 59 पहुंचा और फिर इसमें 1 जोड़कर इसे 60 किया गया।

MOLITICS SURVEY

क्या संतोष गंगवार के बयान का असर महाराष्ट्र चुनाव में होगा ?

हाँ
  50%
नहीं
  50%
पता नहीं
  0%

TOTAL RESPONSES : 2

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know