पूर्व मंत्री एनोस एक्का को गवाही के लिए 31 तक का समय, 6 दिनों में पेश करने होंगे 87 गवाह
Latest News
bookmarkBOOKMARK

पूर्व मंत्री एनोस एक्का को गवाही के लिए 31 तक का समय, 6 दिनों में पेश करने होंगे 87 गवाह

By Jagran calender  26-Aug-2019

पूर्व मंत्री एनोस एक्का को गवाही के लिए 31 तक का समय, 6 दिनों में पेश करने होंगे 87 गवाह

आय से अधिक संपत्ति मामले में घिरे झारखंड के पूर्व मंत्री एनोस एक्‍का की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। सीबीआइ की विशेष अदालत में उन्‍होंने अपने बचाव के लिए कुल 221 गवाहों की सूची अदालत को सौंपी थी। जिनमें अब तक वे 134 गवाहों को ही पेश कर चुके हैं।  अब उनके पास 31 अगस्त तक का समय है, बचे हुए इन छह दिनों में 87 गवाहों को पेश करना होगा।
एनोस एक्‍का पर आय से 16.82 करोड़ रुपये की संपत्त्‍िा अधिक जमा करने के आरोप हैं। इस मामले में ईडी ने भी एनोस एक्‍का पर मनी लांड्रिंग का मामला दर्ज किया है। अब तक एनोस एक्‍का के 100 करोड़ से अधिक की संपत्ति अलग-अलग राज्‍यों में जब्‍त की जा चुकी है। इनमें कई आलीशान बंगले व कीमती भूखंड शामिल हैं। इस मामले में एनोस के अलावा उनकी पत्नी मेनन एक्का, भाई गिदियन एक्का, इब्राहिम एक्का, जयकान्त बाड़ा, दीपक लकड़ा एवं रोशन मिंज कोर्ट में ट्रायल फेस कर रहे हैं।
पाकिस्तान के बारे में ये बात कह कर ट्रोल हुईं लेखिका अरुंधति रॉय
सीबीआइ की ओर से पूरी हो चुकी है गवाही
सीबीआइ की ओर से एनोस एक्का पर 16.82 करोड़ रुपये आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने का आरोप साबित करते हुए 158 गवाहों की गवाही कराई गई है। जबकि एनोस एक्का ने अपना पक्ष रखते हुए कहा है कि उपहार में मिली धनराशि को जांच एजेंसी आय से अधिक संपत्ति बता रही है।
एनोस के अधिकतर गवाहों ने कहा कि बच्चों के जन्मदिन पार्टी में दिए कैश उपहार
पूर्व मंत्री एनोस एक्का के बचाव में एम्ब्रोस एक्का, डमरूधर दास, संतोष कुमार मिश्रा, माधव कच्छप, एमके गिरि और लक्ष्मी प्रसाद सहित 134 लोगों की गवाही अब तक अदालत में हो चुकी है। कई गवाहों ने कोर्ट में कहा कि एनोस से विधायक और मंत्री बनने के बाद परिचय हुआ। कुछ गवाहोंन ने अपनी गवाही में नगद उपहार देने की बात कही है।
एनोस की ओर से अदालत में पेश किए गए अधिकतर गवाहों ने कहा कि उनके दोनों बच्चों की जन्मदिन पार्टी में जब भी गए नगद 5001 से लेकर 20001 रुपये तक उपहार दिए। जब सीबीआई की ओर से इन गवाहों का प्रति-परीक्षण किया गया तो वे कोई कागजी सबूत प्रस्तुत नहीं कर पाए। आय से अधिक संपत्ति मामले में रोज सुनवाई और हर दिन गवाही दर्ज की जा रही है। 

MOLITICS SURVEY

'ओला-ऊबर के कारण ऑटो सेक्टर में मंदी' - क्या निर्मला सीतारमण के इस बयान से आप सहमत है ?

TOTAL RESPONSES : 53

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know