जम्मू-कश्मीर में सामान्य होने लगे हैं हालात, कई पाबंदियां हटाई गईं, इंटरनेट सेवा हुई बहाल, 96 टेलीफोन एक्सचेंज में से 17 बहाल
Latest News
bookmarkBOOKMARK

जम्मू-कश्मीर में सामान्य होने लगे हैं हालात, कई पाबंदियां हटाई गईं, इंटरनेट सेवा हुई बहाल, 96 टेलीफोन एक्सचेंज में से 17 बहाल

By Jagran calender  17-Aug-2019

जम्मू-कश्मीर में सामान्य होने लगे हैं हालात, कई पाबंदियां हटाई गईं, इंटरनेट सेवा हुई बहाल, 96 टेलीफोन एक्सचेंज में से 17 बहाल

वादी में धीरे धीरे सामान्य हो रही जिंदगी के बीच घटती प्रशासनिक पाबंदियों के साथ ही शनिवार को 12 दिनों से बंद पड़े 1.5 लाख से ज्यादा लैंडलाइन फोन बहाल हो गए। फिलहाल, 17 एक्सचेंज ही बहाल की गई हैं, शेष अन्य काे इतवार की शाम तक बहाल कर लिया जाएगा। 35 पुलिस थाना क्षेत्राें में ढील दी गईहै और सोमवार को वादी में प्राथमिक स्कूलों में अकादमिक गतिविधियों को बहाल करने के लिए सभी आवश्यक सुरक्षा प्रबंधों को प्रशासन ने अंतिम रुप देना शुरु कर दिया है।
Armed forces in Kashmir are detaining children and molesting women and girls amid a state-wide blackout, report claims
गौरतलब है कि जम्मू कश्मीर विशेषाधिकार समाप्त करने और इसे दो केंद्र शासित राज्याें में विभाजित किए जाने से कश्मीर में उपजी स्थिति के मददेनजर प्रशासन ने वादी में निषेधाज्ञा लागू कर रखी है। सभी प्रकार की टेलीफोन और इंटरनेट सेवाएं भी चार अगस्त की रात को बंद कर दी गई थी। एहतियात के तौर पर सभी शिक्षण संस्थान भी बंद रखे गए हैं। कई इलाकों में आने जानेके रास्ते भी पूरी तरह सील किए गए।
सड़कों पर वाहनों की आवाजाही भी बढ़ रही है
अलबत्ता,वादी में तनाव के बावजूद कोई बड़ा हिंसक प्रदर्शन न होने और कानून व्यवस्था की स्थिति बनाए रखने में जनसहयोग का संज्ञान लेते हुए प्रशासन ने भी प्रशासनिक पाबंदियों को हटाना शुरु कर दिया है। इसका असर सामान्य जनजीवन पर भी हो रहा है। विभिन्न इलाकों में दुकानें खुल रही हैं और सड़कों पर वाहनों की आवाजाही भी बढ़ रही है। हालात में सुधार को देखते हुए गत रोज मुख्य सचिव बीवीआर सुब्रह्मण्यम ने भी टेलीफोन सेवाओं को चरणबद्ध तरीके से बहाल करने का यकीन दिलाया था।
आज तड़के ग्रीष्मकालीन राजधानी श्रीनगर के अलावा उत्तरी कश्मीर में एलओसी के साथ सटे केरन, टंगडार समेत विभिन्न इलाकों में 17 टेलीफोन एक्सचेंज को पूरी तरह क्रियाशील बनाया गया। इसके अलावा पूरी वादी में 35 थाना क्षेत्रों में भी प्रशासनिक पाबंदियों में ढील दी गई है, जिसे धीरे धीरे बढ़ाया जा रहा है।
वादी में 96 टेलीफोन एक्सचेंज में से 17 को बहाल कर दिया गया 
राज्यपाल के प्रमुख सचिव रोहित कंसल और कश्मीर रेंज के पुलिस आईजी एसपी पाणी ने एक बातीचत के दौरान बताया कि पूरी वादी में 96 टेलीफोन एक्सचेंज हैं। इनमें से 17 को बहाल कर दिया गया है। आज शाम तक 50 एक्सचेंज को क्रियाशील बनाया जाएगा और संभवत: इतवार की शाम तक हर एक्सचेंज बहाल हो चुकी होगी। उन्होंने बताया कि सिर्फ लैंडलाइन फोन बहाल किएजा रहे हैं। हालात की लगातार समीक्षा हो रही है। अगर स्थिति यूं ही शांत व सामान्य रहती है तो फिर मोबाईल फोन व इंटरनेट सेवा को भी बहाल करने पर विचार किया जाएगा। फिलहाल, जम्मू संभाग के पांच जिलों में मोबाईल इंटरनेट सेवा भी बहाल कर दी गई है। वादी के मौजूदा हालात पर उन्होंने कहा कि स्थिति पूरी तरह सामान्य है। बेशक कई जगह दुकानें बंद हैं, लेकिन सड़कों पर लोगों की आवाजाही सामान्य हो चली है। अधिकांश जगहों पर प्रशासनिक पाबंदियों में ढील दी गई है।
आईजीपी कश्मीर एसपी पाणी ने बताया कि कानून व्यवस्था में सुधार को देखते हुए ही आज पूरी वादी में 35 पुलिस थाना क्षेत्रों के कार्याधिकार क्षेत्र में प्रशासनिक पाबंदियों में ढील दी गई है। इनमें उत्तरी कश्मीर के 15, दक्षिण कश्मीर के 15 और सेंट्रल कश्मीर में 5 पुलिस थाना क्षेत्र हैं। हम स्थिति की लगातार निगरानी कर रहे हैं। वादी में सोमवार को प्राथमिक स्कूलों को खोले जाने की तैयारियों का जिक्र करते हुए रोहित कंसल ने कहा कि हमारा प्रयास है कि अगले एक सप्ताह के दौरान पूरी वादी में अकादमिक गतिविधियां बहाल हों। हम विभिन्न जिलों में स्थानीय परिस्थितियों के अनुरुप क्रमानुसार स्कूल कालेज खोलने का फैसला किया है। लोग शांति व्यवस्था बनाए रखने में पूरा सहयोग कर रहे हैं। यही कारण है कि पिछले 15 दिनों में कहीं कोई जानी नुकसान नहीं हुआ है।
कश्मीर के हालात में हो रहा सुधार 
जम्मू-कश्मीर के हालात में धीरे-धीरे अब सुधार हो रहा है। राज्य प्रशासन सोमवार से स्कूलों को खोलने के लिए सारी तैयारी कर ली है। श्रीनगर में कई जगहों पर दुकानें खुली है। राज्यपाल के सभी सलाहकार लगातार कश्मीर में मूल सुविधाओं की समीक्षा कर रहे हैं। वहीं जम्मू में मोबाइल इंटरनेट सेवाएं बहाल होने से लोगों ने राहत की सांस ली है। नेट बैंकिंग, ऑन लाइन शॉपिंग के साथ पेट्रोल पंपों व शोरूम में पॉज मशीनें चलने से कारोबार को भी राहत मिली है। 

MOLITICS SURVEY

क्या संतोष गंगवार के बयान का असर महाराष्ट्र चुनाव में होगा ?

TOTAL RESPONSES : 2

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know