आर्मी चीफ की तुलना 'डायर' से करने पर भड़के कुमार विश्वास- क्या यही अभिव्यक्ति की आज़ादी है?
Latest News
bookmarkBOOKMARK

आर्मी चीफ की तुलना 'डायर' से करने पर भड़के कुमार विश्वास- क्या यही अभिव्यक्ति की आज़ादी है?

By Dainik Jagran calender  12-Aug-2019

आर्मी चीफ की तुलना 'डायर' से करने पर भड़के कुमार विश्वास- क्या यही अभिव्यक्ति की आज़ादी है?

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर विवादास्पद टिप्पणी कर जेल की हवा खा चुके पत्रकार प्रशांत कन्नोजिया नई मुश्किल में फंस सकते हैं। दरअसल, रविवार को प्रशांत ने एक ट्वीट किया, जिसमें उन्होंने वर्तमान सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत की तुलना 1919 में जालियांवाला बाग हत्याकांड के दोषी जनरल डायर से कर दी। इसके बाद प्रीत विहार थाने में प्रशांत के खिलाफ एक शिकायत दी गई है। पुलिस ने जांच शुरू कर दी है। पुलिस उपायुक्त जसमीत सिंह ने शिकायत मिलने की पुष्टि की है। उन्होंने कहा कि मामले की जांच के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।
प्रीत विहार में रहने वाले शेखर चहल ने इस संबंध में शिकायत दी है। उन्होंने प्रशांत कन्नोजिया पर देश विरोधी गतिविधि का आरोप लगाया है। उन्होंने अपनी शिकायत में कहा है कि इस ट्वीट के जरिये उन्होंने भारतीय सेना का अपमान किया है।

इस पर आम आदमी पार्टी के बागी नेताओं में शुमार कुमार विश्वास ने ट्विट कर इशारों-इशारों में प्रशांत कन्नौजिया पर हमला बोला है। उन्होंने ट्वीट किया है- 'देश की सेना के प्रमुख की तुलना एक साम्राज्यवादी हत्यारे से करना अभिव्यक्ति की आज़ादी है ? @HMOIndia @adgpi @Uppolice से अनुरोध है कि अपराधी को अविलंब गिरफ़्तार करें और देश की संवैधानिक अखंडता को तोड़ने के लिए उकसाने वाले ऐसे अपराधियों के समर्थन में उतरने वालों पर भी कार्यवाही करे।'

ये भी पढ़ें- अनुच्छेद 370 हटने से मानो पाकिस्तान के पैरों तले ज़मीन खिसकी
इससे पहले भी वह ट्विटर पर देश विरोधी टिप्पणी कर लोगों की भावनाओं को आहत करते रहे हैं। उन्होंने पुलिस से सख्त कार्रवाई की मांग की है। हालांकि ट्विटर पर विवाद बढ़ते देख प्रशांत ने शाम को माफी मांगते हुए ट्वीट को हटा दिया। उन्होंने कहा कि मुङो प्रतीत हुआ कि ट्वीट गलत था, इसलिए डिलीट कर दिया। उन्होंने कहा कि कश्मीर में कफ्यरू से वह आहत थे। इस वजह से उन्होंने ऐसा ट्वीट कर दिया।
गौरतलब है कि इस साल जून में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर विवादास्पद टिप्पणी के कारण उप्र पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार किया था। बाद में उन्हें सुप्रीम कोर्ट से जमानत मिल गई थी।

MOLITICS SURVEY

क्या आरक्षण पर मोहन भागवत के बयान से चुनावों में बीजेपी को नुकसान होगा?

TOTAL RESPONSES : 28

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know