प्रियंका गांधी बोलीं- सरकार की जिम्मेदारी सुरक्षा की है तो अपराधियों को संरक्षण क्यों?
Latest News
bookmarkBOOKMARK

प्रियंका गांधी बोलीं- सरकार की जिम्मेदारी सुरक्षा की है तो अपराधियों को संरक्षण क्यों?

By India18 calender  05-Aug-2019

प्रियंका गांधी बोलीं- सरकार की जिम्मेदारी सुरक्षा की है तो अपराधियों को संरक्षण क्यों?

उन्नाव रेप कांड को लेकर देश भर में गुस्सा देखने को मिल रहा है. इसी क्रम में अब कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने सोमवार को ट्वीट करके यूपी सरकार पर निशाना साधा है. प्रियंका गांधी ने ट्वीट कर कहा कि ये आवाज आज पूरे उत्तर प्रदेश से उठ रही है. उप्र के शहरों से उन्नाव की बेटी को न्याय दिलाने के लिए आम लोगों ने कांग्रेस द्वारा चलाए गए हस्ताक्षर अभियान में हिस्सा लिया. प्रियंका आगे कहती हैं कि जनता के मन में सवाल है कि जब सरकार की जिम्मेदारी सुरक्षा की है तो अपराधियों को संरक्षण क्यों?

'सुप्रीम कोर्ट की आभारी हैं'

इससे पहले उन्नाव मामले में एक और ट्वीट कर प्रियंका गांधी ने कहा था कि वह सुप्रीम कोर्ट की आभारी हैं, मामले में संज्ञान लेकर उत्तर प्रदेश में चल रहे जंगलराज का खुलासा करने के लिए. इसी बीच बीजेपी ने भी आखिर यह जाना कि उसने एक अपराधी को शक्तिशाली बना रखा था और अब ठीक करने को लेकर कुछ कदम उठाते हुए पीड़ित महिला को न्याय दिलाने की तरफ पहल की है.
उन्नाव के विधायक कुलदीप सेंगर पर रेप का आरोप लगाने वाली पीड़िता परिजनों समेत रविवार को रायबरेली में हादसे का शिकार हो गई थी. कार और ट्रक की टक्कर में पीड़िता की चाची और मौसी की मौत हो गई, जबकि हादसे में वकील महेंद्र सिंह चौहान और रेप पीड़िता की हालत गंभीर है. प्रशासन ने ऐलान किया है कि दुर्घटना में घायल दोनों लोगों (रेप पीड़िता और उसके वकील) के इलाज का सारा खर्च राज्य सरकार वहन करेगी. बता दें कि घायलों का किंग जार्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी के ट्रॉमा सेंटर में इलाज चल रहा है.

कौन हैं विधायक कुलदीप सिंह सेंगर?
मूल रूप से फतेहपुर जिले के रहने वाले बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर की माखी गांव में तूती बोलती है. वह उन्नाव के अलग-अलग विधानसभा सीटों से चार बार से लगातार विधायक निर्वाचित हुए हैं. उन्नाव के माखी थाना क्षेत्र के सराय थोक पर उनका ननिहाल है. वह यहीं आकर बस गए. कुलदीप सेंगर ने यूथ कांग्रेस से राजनीति की शुरूआत की और वर्ष 2002 में भगवंतनगर से बीएसपी के टिकट पर विधायक बने. इसके बाद 2007 और 2012 में सपा के टिकट पर चुने गए. इसके बाद साल 2017 में बांगरमऊ से बीजेपी के टिकट पर चुनकर विधानसभा पहुंचे.

MOLITICS SURVEY

क्या आरक्षण पर मोहन भागवत के बयान से चुनावों में बीजेपी को नुकसान होगा?

TOTAL RESPONSES : 16

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know