बीजेपी का दावा- दिल्ली में नहीं है सबसे सस्ती बिजली, झूठे हैं केजरीवाल
Latest News
bookmarkBOOKMARK

बीजेपी का दावा- दिल्ली में नहीं है सबसे सस्ती बिजली, झूठे हैं केजरीवाल

By Aaj Tak calender  04-Aug-2019

बीजेपी का दावा- दिल्ली में नहीं है सबसे सस्ती बिजली, झूठे हैं केजरीवाल

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल अक्सर दावा करते हैं कि राजधानी में देश के अन्य राज्यों की तुलना में सबसे सस्ती बिजली है. ऐसे में बीजेपी ने उनके इस बयान पर पलटवार किया है. दिल्ली बीजेपी प्रवक्ता हरीश खुराना ने आंकड़ों के हवाले से बताया कि दिल्ली में 25 अन्य राज्यों की तुलना में महंगी बिजली है.
हरीश खुराना ने 'आजतक' से बातचीत में कहा कि अरविंद केजरीवाल लगातार झूठ बोलते हैं. ऐसे में उनके इस झूठ का भी पर्दाफाश हो गया है कि दिल्ली में देश के अन्य राज्यों की तुलना में सबसे सस्ती बिजली है.
हरीश खुराना का कहना है कि सेंट्रल इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड की रिपोर्ट कहती है कि 25 राज्यों में दिल्ली से सस्ती बिजली है. दिल्ली में 4 रुपए 62 पैसे प्रति यूनिट बिजली है जबकि अरुणाचल प्रदेश, सिक्किम, तमिलनाडु, ओडिशा, हिमाचल प्रदेश, नगालैंड और हरियाणा में दिल्ली के मुकाबले ज्यादा सस्ती बिजली है.
हरीश खुराना ने ट्वीट कर कहा कि दो दिन से अरविंद केजरीवाल चिल्ला-चिल्ला कर कह रहे हैं कि हिंदुस्तान में सबसे सस्ती बिजली दिल्ली में है. मित्रों यह चार्ट देख लो और खुद निर्णय लो कि केजरीवाल किस कदर जनता का बेवकूफ बना रहे हैं. आप सब्सिडी के खेल पर जो मर्ज़ी कह सकते हो लेकिन सच्चाई यह है..'
हरीश खुराना ने कहा कि तकरीबन 25 राज्य ऐसे हैं, जहां दिल्ली से सस्ती बिजली है और अरविंद केजरीवाल सबसे ज्यादा फिक्स चार्ज लेकर जनता का पैसा गबन कर गए हैं. हरीश खुराना ने कहा, 'अरविंद केजरीवाल बिजली कंपनियों को 1800 करोड़ की सब्सिडी देते हैं तो आप बताएं कि अरविंद केजरीवाल बिजली कंपनियों से कितना कट ले रहे हैं.' 

हरीश खुराना ने सवाल उठाते हुए कहा कि दिल्ली में फिक्स चार्ज को डबल किया गया है और महज छोटी सी रकम जनता को लौटाई जा रही है. हरीश खुराना ने कहा कि बिजली कम्पनी की CAG रिपोर्ट मामले में केजरीवाल क्यों नहीं पिछले 4 साल से जांच करवा रहे हैं? सुप्रीम कोर्ट में सरकार अपना पक्ष क्यों नहीं रख रही है.

MOLITICS SURVEY

क्या आरक्षण पर मोहन भागवत के बयान से चुनावों में बीजेपी को नुकसान होगा?

TOTAL RESPONSES : 18

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know