पहाड़ से लेकर बच्चों की छात्रवृत्ति तक खा गई सरकार : दीपेन्द्र
Latest News
bookmarkBOOKMARK

पहाड़ से लेकर बच्चों की छात्रवृत्ति तक खा गई सरकार : दीपेन्द्र

By Dainiktribune calender  03-Aug-2019

पहाड़ से लेकर बच्चों की छात्रवृत्ति तक खा गई सरकार : दीपेन्द्र

कांग्रेस के पूर्व सांसद दीपेन्द्र सिंह हुड्डा ने कहा कि भाजपा सरकार के पौने 5 साल में घोटाले का बोलबाला रहा है। उन्होंने कहा कि धांधली, वसूली, रिश्वतखोरी, फर्जीवाड़ा, पेपर लीक, अपराधियों को संरक्षण का पर्याय बनी मौजूदा सरकार पहाड़ से लेकर बच्चों की छात्रवृत्ति भी हजम कर गई। उन्होंने कहा कि स्कॉलरशिप घोटाले को सिर्फ रोहतक, झज्जर, सोनीपत में ही नहीं, बल्कि प्रदेशव्यापी स्तर पर अंजाम दिया गया है। यदि इसकी निष्पक्ष जांच कराई जाए तो नौकरशाह से लेकर मंत्री तक बेनकाब होंगे। शुक्रवार को पूर्व सांसद दीपेन्द्र हुड्डा रोहतक पहुंचे और कार्यकर्ताओं से मुलाकात की। उन्होंने रोहतक में 4 फरवरी को अनाज मंडी में होने वाले परिवर्तन कार्यकर्ता सम्मेलन का न्योता दिया। साथ ही सम्मेलन को सफल बनाने के लिए ड‍्यूटियां भी लगाई। बाद में पत्रकारों से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार हर मोर्चे पर विफल साबित हुई है। उन्होंने कहा कि भाजपा के पौने 5 साल के शासनकाल में घोटालों का बोलबाला रहा है।
पूर्व सांसद ने कहा कि हुड्डा सरकार के समय शिक्षा, निवेश, रोजगार आदि के मामले में हरियाणा नंबर वन पर था। गरीब और अनुसूचित जाति के करीब तीस लाख छात्रों को पढाई-लिखाई के लिये विभिन्न योजनाओं के माध्यम से छात्रवृत्ति का लाभ दिलाया था, लेकिन भाजपा ने सता में आते ही डॉ. भीमराव अंबेडर मेधावी छात्र योजना को बंद कर दिया। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार पारदर्शिता व ईमानदारी का झूठा ढोंग रच रही है, जबकि पौने पांच साल में अवैध खनन घोटाला, परिवहन विभाग का किलोमीटर स्कीम घोटाला, बिजली विभाग में मीटर खरीद घोटाला, हजारों करोड रुपये की काली कमाई वाला ओवरलोडिंग घोटाला, रोडवेज भर्ती घोटाला, नायब तहसीलदार भर्ती घोटाला, इंस्पेक्टर भर्ती पेपर लीक घोटाला, जीएसटी चोरी घोटाला उजागर हुआ है। दीपेन्द्र हुड्डा ने कहा कि इन सभी मामलों में कहीं न कहीं उच्च स्तर पर सरकार की मिलीभगत या लापरवाही से इनकार नहीं किया जा सकता है। पूर्व सांसद ने कहा कि रोडवेज किलोमीटर स्कीम घोटाले में हाईकोर्ट के संज्ञान लेने के बाद मुख्यमंत्री इस मामले में केवल अधिकारियों को दोषी ठहराकर अपना पीछा छुडाते नजर आ रहे हैं, जबकि प्रदेश की जनता सच्चाई को जान चुकी है कि इतना बडा घोटाला की बिना सरकार की मिली भगत से नहीं हो सकता है। उन्होंने आरोप लगाया कि ओवरलोडिंग घोटाले की काली कमाई का बंटवारा अधिकारी, मंत्री से लेकर ऊपर तक जाता है और भ्रष्टाचार के दलदल में डूबी भाजपा सरकार अपनी गर्दन बचाने के लिए छोटे अधिकारियों को फंसाने में जुटी है। उन्होंने कहा कि सरकार एक तरफ आरावली की पहाडियों में अवैध खनन को रोकने में नाकाम रही है, वहीं दूसरी तरफ पौधागिरीअभियान चलाने का दिखावा कर पर्यावरण संरक्षण का राग अलाप रही है। उन्होंने कहा कि पिछले पौने पांच सालों में भाजपा सरकार की दिशाहीन आर्थिक नीतियों का बुरा परिणाम अब सामने आ रहा है और प्रदेश की जनता विधानसभा चुनाव का इंतजार कर रही है।

MOLITICS SURVEY

क्या आरक्षण पर मोहन भागवत के बयान से चुनावों में बीजेपी को नुकसान होगा?

TOTAL RESPONSES : 33

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know