तीन तलाकः फिर बिखरा विपक्ष, सहयोगियों पर भड़की कांग्रेस, कहा- ऐसे विरोध का क्या मतलब
Latest News
bookmarkBOOKMARK

तीन तलाकः फिर बिखरा विपक्ष, सहयोगियों पर भड़की कांग्रेस, कहा- ऐसे विरोध का क्या मतलब

By Aaj Tak calender  31-Jul-2019

तीन तलाकः फिर बिखरा विपक्ष, सहयोगियों पर भड़की कांग्रेस, कहा- ऐसे विरोध का क्या मतलब

तीन तलाक का विरोध करने वाले दलों के राज्यसभा में वोटिंग के दौरान गैर मौजूद रहने पर कांग्रेस ने सवाल खड़े किए हैं. कांग्रेस का कहना है कि पार्टी बिल को सेलेक्ट कमेटी में भेजना चाहती थी जिसके लिए वोटिंग हुई. लेकिन इस दौरान तीन तलाक बिल का विरोध करने वाले कई दलों के सदस्य उच्च सदन से नदारद रहे. ऐसे में उनके इस विरोध का क्या मतलब है?  
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने न्यूज एजेंसी एएनआई से कहा, 'हम चाहते थे कि तीन तलाक बिल को सेलेक्ट कमेटी के पास भेजा जाए. लेकिन सरकार ने बात नहीं मानी. इसीलिए वोटिंग कराई गई. लेकिन सवाल उन लोगों पर है जो वोटिंग के दौरान सदन से गायब हो गए. जिन लोगों ने सदन में तीन तलाक बिल का विरोध किया वे गैर मौजूद रहे. अगर उन्हें दूर ही रहना था तो विरोध की बात करने का मतलब क्या है?'
असल में, मुस्लिम महिलाओं से एक साथ तीन तलाक को अपराध करार देने वाला बिल राज्यसभा से भी पारित हो गया है. इस बिल के कानून बनने का रास्ता साफ हो गया है. राष्ट्रपति से मंजूरी मिलने के बाद यह कानून के तौर पर लागू हो जाएगा. अपर हाउस में मुस्लिम महिला (विवाह अधिकार संरक्षण) विधेयक के पक्ष में 99 वोट पड़े, जबकि 84 सांसदों ने इसके विरोध में मतदान किया.
मगर तीन तलाक बिल पर वोटिंग के दौरान शरद पवार, प्रफुल्ल पटेल और राम जेठमलानी नहीं आए. वहीं बसपा, पीडीपी, टीआरएस, जेडीयू, एआईएडीएमके और टीडीपी जैसे कई दलों के वोटिंग में हिस्सा न लेने के चलते सरकार को यह बिल पास कराने में आसानी हुई. बिल की मंजूरी से विपक्ष की कमजोर रणनीति भी उजागर हुई और इसी बात को लेकर कपिल सिब्बल ने नाराजागी जताई है.  इस बिल का तीखा विरोध करने वाली कांग्रेस कई अहम दलों को अपने साथ बनाए रखने में असफल रही.

MOLITICS SURVEY

क्या आरक्षण पर मोहन भागवत के बयान से चुनावों में बीजेपी को नुकसान होगा?

TOTAL RESPONSES : 5

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know