अब तेलुगू राज्यों में भी 'ऑपरेशन लोटस' चलाएगी बीजेपी?
Latest News
bookmarkBOOKMARK

अब तेलुगू राज्यों में भी 'ऑपरेशन लोटस' चलाएगी बीजेपी?

By Satya Hindi calender  24-Jul-2019

अब तेलुगू राज्यों में भी 'ऑपरेशन लोटस' चलाएगी बीजेपी?

कर्नाटक में 'ऑपरेशन लोटस' सफल होने के बाद बीजेपी ने दक्षिण भारत में अपनी स्थिति मज़बूत करने के लिए एक ख़ास रणनीति बनाई है। कई कोशिशों के बावजूद बीजेपी दक्षिण भारत के ज़्यादातर राज्यों में अपनी स्थिति मज़बूत करने में नाकामयाब रही थी। 2019 के लोकसभा चुनाव में भी बीजेपी कर्नाटक और तेलंगाना को छोड़ दक्षिण के किसी अन्य राज्य में कुछ भी हासिल नहीं कर पायी थी। केरल, तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश में उसे एक भी लोकसभा सीट नहीं मिली। यानी दक्षिण के तीन राज्यों में मोदी लहर बेअसर थी। इसी बात को ध्यान में रखते हुए बीजेपी के रणनीतिकारों ने दक्षिण के सभी राज्यों में पार्टी का जनाधार बढ़ाने के लिए एक ख़ास रणनीति बनायी है। तो क्या बीजेपी कर्नाटक की तरह दूसरे तेलुगू राज्यों में ऑपरेशन लोटस शुरू करेगी? 
बता दें कि 'ऑपरेशन लोटस' बीजेपी के अभियान का एक फ़ॉर्मूला है। दरअसल, कर्नाटक में 2008 में बीजेपी 110 सीटें पाकर सबसे बड़ी पार्टी बनी थी लेकिन बहुमत से तीन सीटें पीछे रह गई थी। बहुमत पाने के लिए बीजेपी ने तब 'ऑपरेशन लोटस' फ़ॉर्मूले को अपनाया था। हालाँकि शुरुआत में 'ऑपरेशन लोटस' बीजेपी के चुनाव प्रचार का हिस्सा था, लेकिन बाद में इसका नाम जोड़-तोड़ करके सरकार बनाने से जुड़ गया।

सूत्रों के मुताबिक़, आंध्र प्रदेश में बीजेपी की नज़र तेलुगू देशम पार्टी (टीडीपी) और कांग्रेस के उन नेताओं पर है जो अपनी जाति, अपने ज़िला या निर्वाचन क्षेत्र पर ख़ासी पकड़ रखते हैं। आंध्र प्रदेश में हाल ही में हुए लोकसभा चुनाव और विधानसभा चुनाव में टीडीपी की क़रारी हार हुई थी। आंध्र की 175 विधानसभा सीटों में से टीडीपी सिर्फ़ 23 सीट ही जीत पायी। 36 साल पुरानी इस पार्टी के इतिहास में यह सबसे बुरी हार है। लोकसभा चुनाव में भी टीडीपी का प्रदर्शन काफ़ी ख़राब रहा। आंध्र की 25 लोकसभा सीटों में से टीडीपी सिर्फ़ 3 सीटें ही जीत पायी। लोकसभा चुनाव और विधानसभा चुनाव में जगन मोहन रेड्डी की वाईएसआर कांग्रेस पार्टी ने शानदार प्रदर्शन किया और सत्ता में भी आयी।

 
टीडीपी में कई नेता ऐसे हैं जो यह मानते हैं कि चंद्रबाबू नायडू की ग़लतियों की वजह से ही टीडीपी की शर्मनाक हार हुई। कई नेता मानते हैं कि चंद्रबाबू ने एनडीए से बाहर आकर सबसे बड़ी ग़लती की। इसके बाद चंद्रबाबू नायडू ने आंध्र प्रदेश में पार्टी संगठन और चुनाव की तैयारियों पर पूरा ध्यान देने के बजाय केंद्र में मोदी विरोधी मोर्चा बनाने पर ध्यान दिया। इतना ही नहीं, चंद्रबाबू नायडू ख़ुद पर लग रहे परिवारवाद, जातिवाद और भ्रष्टाचार के आरोपों का जवाब देने में भी पूरी तरह से विफल रहे। इसी तरह की कई ग़लतियाँ चंद्रबाबू ने कीं और उन्हें इसका ख़ामियाज़ा चुनाव में क़रारी हार के रूप में भुगतना पड़ा। 
चंद्रबाबू पार्टी की कमान बेटे को देंगे?
इस समय चंद्रबाबू नायडू की उम्र 69 साल है। अगले विधानसभा चुनाव तक वह 74 साल के हो जाएँगे। ऐसा माना जा रहा है कि चंद्रबाबू नायडू अपनी उम्र को ध्यान में रखते हुए पार्टी की कमान अपने बेटे नारा लोकेश को सौंप देंगे। टीडीपी के कई नेताओं को नारा लोकेश के नेतृत्व पर भरोसा नहीं है, क्योंकि अपने पहले ही विधानसभा चुनाव में वे हार गए, वह भी मंत्री रहते हुए।
बीजेपी के लिए मौक़ा
शुरुआत से ही टीडीपी के साथ रहे इन नेताओं को अब नये नेता और नयी पार्टी की तलाश है। चूँकि ये नेता वाईएसआर कांग्रेस में जा नहीं सकते, इनमें से ज़्यादातर की नज़र बीजेपी पर है। बीजेपी की भी नज़र इन्हीं नेताओं पर है। लेकिन बीजेपी टीडीपी से आने वाले हर नेता को अपने में शामिल नहीं करना चाहती है। मज़बूत जनाधार वाले नेताओं को ही बीजेपी लेना चाहती है। बीजेपी की प्राथमिकता कापू जाति के असरदार नेताओं पर है। आंध्र में कापू जाति की जनसंख्या 18 फ़ीसदी है। कापू जाति से संबंधित दो फ़िल्मस्टार भाइयों - चिरंजीवी और पवन कल्याण ने अपनी-अपनी पार्टी बनायी थी। लेकिन दोनों पार्टियाँ - प्रजा राज्यम और जन सेना फ्लॉप रहीं। चिरंजीवी ने अपनी पार्टी प्रजा राज्यम कांग्रेस में विलय कर दी थी। 

MOLITICS SURVEY

क्या संतोष गंगवार के बयान का असर महाराष्ट्र चुनाव में होगा ?

TOTAL RESPONSES :

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know