कर्नाटक में इकलौते BSP विधायक ने नहीं मानी मायावती की बात, पार्टी से निकाला
Latest News
bookmarkBOOKMARK

कर्नाटक में इकलौते BSP विधायक ने नहीं मानी मायावती की बात, पार्टी से निकाला

By Tv9bharatvarsh calender  24-Jul-2019

कर्नाटक में इकलौते BSP विधायक ने नहीं मानी मायावती की बात, पार्टी से निकाला

बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने मंगलवार को कर्नाटक के एकमात्र BSP  विधायक को पार्टी से निष्कासित कर दिया है. उन्होंने ट्वीट कर यह जानकारी दी. मायावती ने ट्वीट कर लिखा, ‘कर्नाटक में कुमारस्वामी सरकार के समर्थन में वोट देने के पार्टी हाईकमान के निर्देश का उल्लंघन करके बीएसपी विधायक एन महेश आज विश्वास मत में अनुपस्थित रहे जो अनुशासनहीनता है जिसे पार्टी ने अति गंभीरता से लिया है और इसलिए श्री महेश को तत्काल प्रभाव से पार्टी से निष्कासित कर दिया गया.’ इससे पहले मायावती ने कर्नाटक में अपने BSP के विधायक एन महेश को CM कुमार स्वामी की सरकार के समर्थन में वोट देने के लिए निर्देश दिया था. मायावती के अधिकारिक ट्विटर हैंडल पर इस बात की जानकारी दी गई थी.
लोकसभा में पास हुआ मोटर व्हीकल संशोधन बिल
कर्नाटक विधानसभा में चौथे दिन विश्वास मत के बाद कांग्रेस-जेडीएस की एचडी कुमारस्वामी सरकार गिर गई है. जबकि बीजेपी को गठबंधन से छह वोट ज्यादा मिले. इसी के साथ राज्य बीजेपी के मुखिया बीएस येदियुरप्पा ने कर्नाटक में सरकार बनाने का दावा ठोकने की बात कही है.
विश्वास मत में जीत हासिल करने के बाद येदियुरप्पा ने इसे लोकतंत्र की जीत करार दिया. उन्होंने मीडिया से बातचीत में कहा, “कर्नाटक की जनता कुमारस्वामी सरकार से परेशान थी. मैं कर्नाटक के लोगों को भरोसा दिलाना चाहता हूं कि राज्य में अब विकास का नया दौर शुरू होगा.”
मालूम हो कि विश्वास मत हारने के बाद कुमारस्वामी गवर्नर के पास इस्तीफा सौंपने गए हैं. वहीं येदियुरप्पा कल यानी बुधवार को गवर्नर से मिलेंगे और सरकार बनाने का दावा पेश करेंगे. हालांकि इससे पहले ही उन्होंने सरकार बनाने के बाद के अपने एजेंडे को लोगों के सामने रख दिया है.
उन्होंने कहा कि वह किसानों को आश्वस्त करना चाहता हूं कि आने वाले दिनों में वह उन्हें ज्यादा से ज्यादा महत्व देंगे. उन्हीं के हित में जल्द से जल्द और ज्यादा फैसले लेंगे. कर्नाटक बीजेपी ने आधिकारिक अकाउंट से ट्वीट कर कहा, यह कर्नाटक के लोगों की जीत है. यह भ्रष्ट और अपवित्र गठबंधन के दौर का अंत है.”
कर्नाटक बीजेप ने ट्वीट में आगे लिखा, “हम लोगों को स्थित और मजबूत सरकार देने का वादा करते हैं. हम मिलकर एक बार फिर से कर्नाटक को समृद्ध राज्य बनाएंगे.” मालूम हो कि विश्वास मत के दौरान बीजेपी को 105 वोट मिले थे जबकि कांग्रेस-जेडीएस को 99 वोट ही मिले.

MOLITICS SURVEY

क्या संतोष गंगवार के बयान का असर महाराष्ट्र चुनाव में होगा ?

TOTAL RESPONSES : 2

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know

Download App