योगी सरकार ने विधानसभा में पेश किया वित्तीय वर्ष 2019-2020 का पहला अनुपूरक बजट
Latest News
bookmarkBOOKMARK

योगी सरकार ने विधानसभा में पेश किया वित्तीय वर्ष 2019-2020 का पहला अनुपूरक बजट

By Jagran calender  23-Jul-2019

योगी सरकार ने विधानसभा में पेश किया वित्तीय वर्ष 2019-2020 का पहला अनुपूरक बजट

वित्तीय वर्ष 2019-2020 का पहला अनुपूरक बजट वित्त मंत्री राजेश अग्रवाल ने मंगलवार को विधानमंडल में पेश किया। अनुपूरक बजट का आकार 13 हजार 594 करोड़ रुपये है, जिसमें राजस्व लेखा का व्व्यय 8 हजार 381 करोड़ रुपये और पूंजी लेखे का व्यय 5, 213 करोड़ रुपये अनुमानित है।
उत्तर प्रदेश की योगी सरकार का यह तीसरा अनुपूरक बजट है। यह अनुपूरक बजट वित्तीय वर्ष 2019-20 के लिए पेश किया गया है। यूपी के वित्त मंत्री राजेश अग्रवाल ने विधानसभा में अनुपूरक बजट पेश किया। इस बार का अनुपूरक बजट पिछले दो बार से बड़ा है। वित्तीय वर्ष 2017-18 के लिए सरकार का पहला अनुपूरक बजट 11 हजार 388 करोड़ रुपये का था। इसके बाद वित्तीय वर्ष 2018-19 के लिए दूसरा अनुपूरक बजट 8 हजार 54 करोड़ रुपये का पेश किया गया था।
योगी सरकार ने चालू योजनाओं को आगे बढ़ाने और सरकार की अन्य घोषणाओं को ध्यान में रखते हुए अनुपूरक बजट पेश किया गया है। अनुपूरक बजट में एक्सप्रेस-वे परियोजनाओं के लिए संसाधन जुटाने का इंतजाम किया गया है। योगी सरकार पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे, बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे, गोरखपुर लिंक एक्सप्रेस-वे के निर्माण में तेजी लाना चाहती है। इसलिए गोरखपुर एक्सप्रेस वे के लिए कर्ज पर ब्याज के मद में 12 करोड़ 70 लाख रुपये की व्यवस्था की गई है। इसी प्रकार बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे के लिए कर्ज पर ब्याज के मद में  46 करोड़ 27 लाख रुपये दिये गए हैं।
योगी सरकार ने पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे और बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे के लिए अतिरिक्त रुपये की व्यवस्था की है। इसमें पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के लिए 850 करोड़ और बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे के लिए 1150 करोड़ रुपये की अतिरिक्त व्यवस्था की गई है। इसके साथ ही प्रयागराज से मेरठ के लिए गंगा एक्सप्रेस-वे के डीपीआर के लिए 15 करोड़ रुपये दिये गए हैं।
यूपी में पर्यटन सूचना एवं प्रसार हेतु 5 करोड़ रुपये की व्यवस्था की गई है। अयोध्या में भव्य दीपोत्सव के आयोजन के लिए 6 करोड़ रुपये अतिरिक्त प्रस्तावित किये गए हैं। इसके अलावा विभिन्न पर्यटन स्थलों के विकास हेतु 100 करोड़ रुपये, जिला योजना अंतर्गत विभिन्न पर्यटन स्थलों के विकास हेतु 5 करोड़ रुपये, ईको टूरिज्म के विकास हेतु 5 करोड़, मिर्जापुर स्थित विंध्यवासिनी देवी धाम के पर्यटन विकास हेतु 10 करोड़ और उन्नाव में स्थित राजा राव राम बक्श सिंह पार्क में अवस्थापना सुविधाओं की सृजन हेतु 2 करोड़ का बजट आवंटित किया गया है।

MOLITICS SURVEY

क्या करतारपुर कॉरिडोर खोलना हो सकता है ISI का एजेंडा ?

हाँ
  46.67%
नहीं
  40%
पता नहीं
  13.33%

TOTAL RESPONSES : 15

Raise Your Voice
Raise Your Voice 

Suffering From Problem In Your Area ? Now Its Time To Raise Your Voice And Make Everyone Know